0

लूटउ तोहर चैन चाहै 
वा मटकउ तोहर नैन
कह किया नहि हम मुस्कि मारब
कि तोरा कहने हम आँचर सम्हारब !
नजरि'क बाण किया होय छउ हिया पार
चल पहिने तूं बउआ अपन दिल कैंऽ सम्हार !!
कह किआ नहि हम मुस्कि मारब,
कि तोरा कहने - - - -

इ तोहर छउ आदति खराब
बउआ अपन तों आदति सुधार !
देखि - दिखि हमरा झिटकी नहि मार,
कहि बाबू संऽ उतरबा देबउ नेहक बोखार !
कह किआ नहि हम मुस्कि मारब,
कि तोरा कहने - - - - -

एहि कोयली'क बोल लगतउ,
 तोरा हिया मे आब गोली सन !
सपने तोरा रहतउ बउआ लागल
आयव हमर घर तोहर, डोली'क संग !
बाट घाट जूनि एना तों हमरा आँखि मार ,
कि सोचतहि कह इ सगर जिला - जवार !
कह किआ नहि हम मुस्कि मारब !
कि तोरा कहने - - - - -

    वी०सी०झा"बमबम"
                                     कैथिनियाँ



मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035