मोदी - नीतीश केर जुगलबंदी से सब हैरान, सियासी अटकलबाजी भेल शुरू - मिथिला दैनिक

Breaking

गुरुवार, 5 जनवरी 2017

मोदी - नीतीश केर जुगलबंदी से सब हैरान, सियासी अटकलबाजी भेल शुरू

पटना। 05 जनवरी। एक दोसरक कट्टर राजनीतिक विरोधी मानल जय बला पीएम नरेंद्र मोदी आर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आय गुरुवार दिन  बिल्कुल अलग अंदाज मे नज़र अएला। मौका छल पटना मे आयोजित गुरु गोविंद सिंह केर 350वां जयंती के मौक़ा पर आयोजित प्रकाश उत्सव समागम केर। कार्यक्रम मे मोदी आर नीतीश एकहि मंच पर मौजूद छलाह। नीतीश कुमार गुजरात मे शराबबंदी लागू करबाक लेल पीएम नरेंद्र मोदी केर खूब तारीफ केलन्हि। ओम्हर, आयोजन केर इंतजाम से गदगद मोदी सेहो शराबबंदी पर नीतीश केर खूब प्रशंसा करबा से नहि चुकला। खास बात ई अछि की पहिने से खबर आबैत छल कि "मंच पर एक संग देखार देता लालू, नीतीश आर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी" मुदा कार्यक्रम केर दौरान कतहु आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव मंच पर नजर नहि अएला।
अपने के बता दी कि किछ दिन पहिने तक नीतीश - मोदी एक दोसर के फुटल आँखि देखब पसंद नहि करैत छलाह। बिहार चुनाव के समय हालात आरो खराब भ' गेल छल। राजनीतिक रैलि सभ मे दुनु एक दोसर पर खूब  निशाना साधने छलाह। मोदी तेँ ऐता धरी आरोप लगा देना छलाह कि नीतीश कुमार एक बेर हुनका आगू से भोजन केर थारी घिच लेना रहथिन।  ओतहि, नीतीश कुमरा केर आरोप छल कि मोदी हुनका पर राजनीतिक हमला करैत पूरा बिहार के निवासि सभक डीएनए खराब बतौलन्हि। ऐना मे दुनु के बीच रिश्ता मे आयल गर्माहट देखि राजनीतिक अटकला तेज भ' गेल अछि।
अपने के बता दी कि आरजेडी आर जेडीयू मे भलेही गठबंधन अछि, लेकिन दागी आरजेडी विधायक राजबल्लभ सँ ल'के सांसद शहाबुद्दीन तक के मामला पर दुनु केर टकराव सामना आइब चुकल अछि। बाहुबली शहाबुद्दीन तेँ नीतीश क' अप्पन नेता मानबा से सेहो इनकार क' देना रहथिन। आरजेडी नेता रघुवंश प्रसाद सिंह खुलेआम कैको बेर नीतीश पर निशाना साधी चुकल छैथ। नोटबंदी पर विपक्ष के एकजुट होयबाक प्रस्ताव पर जेडीयू के अलग भेला पर सेहो आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद नीतीश कुमार पर परोक्ष रूप से निशाना साधैत एहिके इगो केर समस्या कहने छलाह।
राजनीतिक जानकार के मानी तेँ नीतीश केर ताजा रुख लालू पर राजनीतिक दबाव कायम रखबाक कवायद भ' सकैत अछि। राजनीतिक तौर पर अति महत्वाकांक्षी लालू केर सामने नीतीश शायद ई सनेस देबा चाहैत छैथ कि विकल्प हुनका सामने सेहो खुजल अछि। ओतहि, बीजेपी क' लागैत अछि कि हुनका स्वाभाविक तौर पर एक अतिरिक्त सहयोगी मिलबा से कउनु हर्जा नहि अछि। राज्यसभा मे केंद्र के सत्ताधारी गठबंधन के कम संख्याबल सेहो बीजेपी क' जेडीयू से नजदीकी बढेबाक लेल प्रेरित क' रहल अछि। कैको अहम बिल एखन ओता पास होयब बांकी अछि। ऐना मे भविष्य मे सेहो अगर मोदी आर नीतीश एक दोसराक प्रति नरमी देखबैत नज़र आबैत छैथ तेँ ज्यादा बेसी आश्चर्य नहि होयबाक चाही।