0
चारु कात लोकक करमान ( भीड़ ) लागल छलहि इस्कुलक मैदान मे !

हम ~ लोक सब संऽ पूछलिएहि कि होइत छैइक ओतय यउ एतेक भीड़ किआक लागल छैइक ?

~ एह नहि बुझलिएहि शशिया गोहाड़ि होइत छैइक !

~ कि होइत छैइक इ शशिया गोहाड़ि ?

~ खतबे जातिक एक विशेष प्रकारक पूजा थिकहि ! ओना हमरा से जे पूछैत छी से जा'क देख ने होइत अछि !

चारु कातक गोलाकार भीड़क बीच मे हुलि कऽ देखैत छी ! एकटा माटिक पीढ़ी बनायल ओहि पर किछु फूल पान सूपारी अक्षत राखल ! चारि पाँच गोटे भाउ खेलाइत छलहि जेना पागल सब करैत रहैत छैइक तहिना !
लाठी बला :- हऽ लेह मूठ्ठी मूनने हमरा दिस बढ़ेलक हम हरबरेलहु मुदा लोक सब कहलक अहाँक भाग बुझू ! आहिरे भाग मे चाउर आ पान छल ! पान झट द खा लेलहु आ अक्षत ओतहि नीचा मऽ - - - -

एकटा जनानी :- देखियो तऽ कनियाँ कऽ झाँहि उठय छहि !

एकटा एलहि लाठी सऽ डॉड़ि झिक देलकहि आ ठार कऽ दोसर ओकरा पर बभूत सगर देह पर छिट देलकहि एकटा ढ़कना मे आगि ओकर चारु कात घूमा देलकहि कहलकहि जोह ठीक भऽ गेलहु ! एकटा गुआर महींस ल'क एलहि इ महींस तीन वरख संऽ - - - ओकरो ओनहिए !

जे अबय सब' क कि कहाँ कहि दैइत छलहि आ लोक संतुष्ट भऽ जाइत छलहि ! हमरा घोर आश्चर्य भ रहल छल

  वी०सी०झा"बमबम"
                                  कैथिनियाँ

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035