0
~ माँ गऽई सबहक हाथ पर रंग विरंगक राखी बान्हल देखय छियहि ?
~ आय राखी पूर्णीमा छियहि ने तांय सब राखी बन्हेने छहि !

~ तखन हम किआ ने बन्हेलिए ? कि अपना सब कैंऽ इ पावनि नहि होइत छहि ?
~ इ पावनि सब कैंऽ होइत छहि !

~ जखन सब कैंऽ होइत छहि तखन हमरा हाथ पर किआक ने राखी - - - ?
~ इ भाई - बहिन केर नेहक पावनि छियहि ! बहिन भाई'क हाथ पर राखि बन्हैत छहि ! अहाँ'क बहिन नहि अछि तांय नहि बन्हायल !

~ माँ गऽई पुनीता दाय , तन्नू , आरती , सविता  ओहो सब तऽ बहिने ने छियहि ?
~ मुदा ओ तोहर अप्पन बहिन नहि ने छियऽ ओ तऽ पितिऔत बहिन भेलह ने ! तांय - - -

~ पितिऔत रहउ आ अप्पन बहिन तऽ बहिने ने होइत छहि ?
~ से तऽ होइत छहि परंच  - - - -
~ परंच - तरंच किछ नहि जाय छियहु सब संऽ राखी बन्हाबऽ - - -

  वी०सी० झा"बमबम" 
                                   कैथिनियाँ

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035