0

हे प्रिय

हम अनंतकाल सँ,

तकैत छी अहाँक बाट ।

दिन-राति हमर

अनिमेष दूनू नेत्र सँ,

बहइछ गंगा-जमुनाक धार ।

करैत छी अहाँक स्मरण कऽ-कऽ-

करूण क्रन्दन ।

अहाँक एक झलक देखबा' लेल,

आकुल रहैछ हमर,

सर्वांग, तन-मन,

संगहि-

मोन रहैछ भयभीत-

अहाँके देखिकऽ,

अहाँके देखबाके,

हमर ई व्याकुलता

नहि कम भऽ जाइ

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035