1
हमर पेशेंस के अजमाकऽ, प्रिय प्रीतम के खुब मजा आबाई छैन
दिल के खुब जलाकऽ, प्रिय प्रीतम के खुब मजा आबाई छैन

खुब बात केला के बाद जहन हम कहे छियैन आब फोन राखु
बैलेंस के दिवाला निकैल कऽ,प्रिय प्रीतम के खुब मजा आबाई छैन

हुनका मालूम छैन जे हम नौकरी वाला छी मिलय नै जा सकब
लेकिन मिलय के कसम खुवाकऽ, प्रिय प्रीतम के खुब मजा आबाई छैन

हम तऽ ओनाहिये नशा में छी हमरा ओना नहीं देखु
मगर जाम-ए-नैन पिया कऽ, प्रिय प्रीतम के खुब मजा आबाई छैन

हम खुब कहे छियैन विवाह सऽ पहले इ सब ठीक नहीं या
सुतल अरमान के जगाकऽ,

रचनाकार :- अजय ठाकुर (मोहन जी)

अजय ठाकुर (मोहन जी)
ग्राम+पोस्ट - भाल्पट्टी
जिला - दरभँगा

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035