गजल- अजय ठाकुर (मोहन जी) - मिथिला दैनिक

Breaking

शनिवार, 12 नवंबर 2011

गजल- अजय ठाकुर (मोहन जी)

गजल- अजय ठाकुर (मोहन जी)


कनियाँ हमर शराब छोरबा देलैथ अपन शपत खुआ क
प्रभाकर हमरा पिया देलैथ कनियाँ के शपत खुआ क //

पिलो त एते पिलो की लरखरा क गिर परलो
प्रभाकर और दोस्त सोचलैथ की हम मैर गेलो //

ल जा रहल छलैथ हमरा ओ अश्म्शान
रस्ते में मिल गेल शराब के दुकान //

हम कहलयैन ल लिय और ४-५ टा बोतल,
अपन शारा-स्थली पर बैश क पियब //

भगवान अगर मांगता जिंदगी के हिशाब,
हुनको एक पैग बना क पियब //