0
गजल- अजय ठाकुर (मोहन जी)


कनियाँ हमर शराब छोरबा देलैथ अपन शपत खुआ क
प्रभाकर हमरा पिया देलैथ कनियाँ के शपत खुआ क //

पिलो त एते पिलो की लरखरा क गिर परलो
प्रभाकर और दोस्त सोचलैथ की हम मैर गेलो //

ल जा रहल छलैथ हमरा ओ अश्म्शान
रस्ते में मिल गेल शराब के दुकान //

हम कहलयैन ल लिय और ४-५ टा बोतल,
अपन शारा-स्थली पर बैश क पियब //

भगवान अगर मांगता जिंदगी के हिशाब,
हुनको एक पैग बना क पियब //

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035