0
गजल - अजय ठाकुर (मोहन जी)


प्रिय प्रीतम के आँखि में प्यार के चमक अखनो छैन
मगर हुनका हमर मोहब्त पर सक आइयो छैन

नाँव में बैस क धोने छलैथ हाथ ओ कहियो
सुंदर सागर पोखेर में मेहँदी के गमक आइयो छैन

प्रिय प्रीतम के छु नहीं पैलो प्यार स कहियो
लेकिन हमर होँट पर हुनकर होँट के झलक आइयो छैन

सब बेर पुछै छथि हमर चाहत के सवाल
ओनाहिये प्यार के परखनाय आइयो छैन

नै रैह पौती प्रिय प्रीतम हमरा बिना
दुनू तरप प्यार के धध्क आइयो आछि

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035