6
प्रभात

घाम चुबैत मरि रहल किसान
खापरी मे छै कनिए धान
मुसरी ओ खापरी लई जाए
नेता स' अफसर धारि खाए

नेता स’ अफ़सर धरि खाए
बोरी बोरी धान सडाए
भूखे मरय त’ मरथुन जनता
मन्त्री जी के कोनो ने चिन्ता

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

  1. घाम चुबैत मरि रहल किसान
    खापरी मे छै कनिए धान
    bad neek bhay

    उत्तर देंहटाएं
  2. घाम चुबैत मरि रहल किसान
    खापरी मे छै कनिए धान
    मुसरी ओ खापरी लई जाए
    नेता स' अफसर धारि खाए

    नेता स’ अफ़सर धरि खाए
    बोरी बोरी धान सडाए
    भूखे मरय त’ मरथुन जनता
    मन्त्री जी के कोनो ने चिन्ता

    bad neek

    उत्तर देंहटाएं

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035