1
गीत

टिकली करय चमचम मुँह छै महिसक चाम सन

देखि क‍ऽ पड़ेलौं कनियाँ लागय कारी झाम सन

कारी-कारी मुँह

बड़-बड़ आँखि टुकुर-टुकुर

अन्हरियाक कीड़ी जकाँ

बड़य भुकुर-भुकुर

ठोरो लागय जरल-जरल

चिनिया बदाम सन...॥

नीपल-पोतल नाक

तैपर खुट्टा सन-सन बुट्टा

हब्बर-हब्बर बाजब

मुँहमे पानक गुलुट्ठा

पेटोक कटनि लागय

टिनही डराम सन...॥

मधमोंगर सन देह लगैए

डम्फा सन-सन डाँर

नाकोसँ चुबैए जेना

पसबय केओ माँड़

हाथो पएर लगै छनि जेना

टिटहीक टांग सन...॥


चन्द्रशेखर कामति, पिता श्री योगेन्द्र कामति, ग्राम+पो.-करियन, जिला- समस्तीपुर, जन्म-तिथि-०३-०१-१९५९, शिक्षा- एम.ए.

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035