एकटा झमकौआ गीत- चन्द्रशेखर कामति - मिथिला दैनिक

Breaking

गुरुवार, 22 जुलाई 2010

एकटा झमकौआ गीत- चन्द्रशेखर कामति

गीत

टिकली करय चमचम मुँह छै महिसक चाम सन

देखि क‍ऽ पड़ेलौं कनियाँ लागय कारी झाम सन

कारी-कारी मुँह

बड़-बड़ आँखि टुकुर-टुकुर

अन्हरियाक कीड़ी जकाँ

बड़य भुकुर-भुकुर

ठोरो लागय जरल-जरल

चिनिया बदाम सन...॥

नीपल-पोतल नाक

तैपर खुट्टा सन-सन बुट्टा

हब्बर-हब्बर बाजब

मुँहमे पानक गुलुट्ठा

पेटोक कटनि लागय

टिनही डराम सन...॥

मधमोंगर सन देह लगैए

डम्फा सन-सन डाँर

नाकोसँ चुबैए जेना

पसबय केओ माँड़

हाथो पएर लगै छनि जेना

टिटहीक टांग सन...॥


चन्द्रशेखर कामति, पिता श्री योगेन्द्र कामति, ग्राम+पो.-करियन, जिला- समस्तीपुर, जन्म-तिथि-०३-०१-१९५९, शिक्षा- एम.ए.