करमी झील- जीवकान्त - मिथिला दैनिक

Breaking

शुक्रवार, 4 दिसंबर 2009

करमी झील- जीवकान्त



रातिमे पानि पड़ए लगलै। बड़का-बड़का बुन्न। चारू कात झीलमे पानिक बुन्न शब्द करए लगलै, जेना हजार टा बजनियाँ अपन-अपन मिरदंग ल’ क’ एक सम बन्हने होइ।
बीकोक आँखिमे निन्न कहाँ? ओकरा बरखाक डर होइत छलै। बरखा जोर करतै तँ ओकर छहर टूटि जेतै, ओकर दरबज्जा आ बाड़ीक माटि खँघरि जेतै। ओकर पूँजी भासि जेतै। परुकाँ बीच साओनमे कदाचित् एहने बरखामे ओकर छहर टूटि गेल रहै। पचीसो गाड़ी माटि ल’ क’ पानि भागि गेल रहै।
गोहालीक मचानसँ ओ उठल। मचानक खुट्टामे लटकाओल रहै ओकर चारि बैटरी बला टाॅर्च। तकरा कातमे रहै ओकर फरसा। बरसाती रहै, से माथ पर लेलक आ दरबज्जा पर आबि एक बेर ओ छहर पर इजोत देलक। पानि पड़ैत रहै। छहर जेना सीझल जाइत रहै। छहरक उत्तरमे जोड़ल पजेबाक देबाल पर बुन्न खसै, तँ सहस्सर टुकड़ीमे टूटि छोटका बुन्न भ’ ऊपर मुँहें उड़ि जाइ...।
बीकोकेँ सन्तोख भेलै। कोनो आदमी नइं, कोनो मूस-तूस नइं। छहर सुरक्षित। ओकर माटि सुरक्षित।
एक बेर ओ झीलक पानि पर टाॅर्चक इजोत देलक। बुन्नसँ पानि पर छिटका छुटै। हलुआइ जेना बुनियाँ छनैत होइ, आ कड़ाहीक तेल जेना छन-मन करैत होइ।
आ, जेना एक सए मिरदंग ल’ बजनियाँ सभ सम बन्हने होइ।
किसनीगंजसँ देवघारा गाम होइत रमपुरा धरि झील बनि जाइत छै, तीन मास, चारि मास। छहर नइं टुटलै, तँ एहि बेर छओ मास झीलमे पानि नइं सुखएतै। कतहु-कतहु करमीक लत्ती चतरि जाइत छै। जाड़मे बेसी ठाम सेमार ध’ लैत छै। ओ एहि झीलकेँ देखि मुग्ध होइत अछि। ओकर नाम ओ देने छै-करमी झील। तीन गामक एहि बाधमे धान नइं होयतै, करमी होयतै। लोक कहैत छै बीको पानि बन्हने छै। पानि ओ ठीके बन्हने छै। मुदा, ओ की करतै? धान नइं होयतै, तँ ओ की करतै?
बुन्न किछु कालक बाद बन्न भेलै। ओ अपना मचान धरि आएल। घोघी उतारि क’ मचानक एक खुट्टा पर ध’ देलक। टाॅर्च एक कातमे रखलक। ओ करओट देलक।
आँखि मुना जाइ आ ओ आँखि भक् द’ ताकि दिअए। ओकरा होइत छै जे चोर लागल छै, बान्ह काटि देतै। बान्हल पानि हहुआ क’ बह’ लगतै। ओकर दरबज्जा आ बाड़ीक माटि पानि संगें बहि जेतै।
ओकरा मोन पड़ैत छै। नेना रहए, तँ एहि ठाम द’ तीन मास पानि बहैत रहै। पानि हेलि कए लोक अद्भुतनाथ महादेवक मन्दिर जाए, गामक पछबरिया बाध जाए। से आब लोक सुखले जाइत अछि।
पश्चिममे छै महादेवक मन्दिर। अद्भुतनाथ महादेव। चकरडीहा बजारक सेठ ओहि ठाम गौरी मन्दिर बना देलकै अछि। एक टा धर्मशाला से जोड़बा देलकै अछि। दू-तीन गामक भगत एहि ठाम अबैत छै। पूजा-पाठ करैत छै। सालमे तीन बेर अष्टयाम आ नवाह कीर्तन होइत छै।
मन्दिर छै ऊँचका टिहुली पर। त’रमे पुरना छोटका ईंटा भेटैत छै। कहैत छै कोनो राजाक गढ़ छलै।
मन्दिरसँ नीचाँ कोनो धार छलै। तकर नासी तीन साल पहिने धरि बहैत रहै। नासी पर पुल नइं रहै। भदवारिमे नासीमे पानि बहैक। बाट पर झबका भ’ जाइक।
नासीक बाद रहै टोल। ओकर टोल किसनीगंज। टोलक बाद पूबमे रहै कोसीक बान्ह। बान्हक पूब भुतही बलानक एकटा नासी बहैत रहै। बान्हमे फाटक रहै, सुलूस गेट। किछुए दिनमे भुतही बान्हक भीतर भरि क’ बाधकेँ ततेक ऊँच क’ देलकै जे सुलूस गेट बन्न। सभ दिन लेल जाम।
टोलक बीच देने रेलबी सड़क। दरभंगासँ रेलगाड़ी अबैक आ निरमली जाइक।
तीन गामक पानि एहि नासी दने बहैक। देवघाराक पानि, फेर रमपुराक पानि, ओहिसँ पहिने बेलहीक पानि। लोक कहैत छै बेलहीमे आर तीन गामक पानि एकट्ठा होइ, आ किसनीगंजक एहि नासीक बाटें रेलबी खत्तामे खसि पड़ै। रेलबी खत्ता देने ओ देवघारा गामक पश्चिम पी. डब्लू. डी.क सड़कक पुलमे खसैत छलै आ आगाँ ओ रेलबी पुल तर दने भगैत छलै। तकरा आगाँ ओ गहुमा नासीक पानिमे मिलि जाइत छलै। ई सभटा आगाँ जा क’ कमला बलानमे खसैत छलै।
एहि साल ई पानि बन्न छै।
किसनीगंजक बाध, देवघाराक एकटा बड़का बाध पानिमे डूबल छै।
बीको करौट फेरि लेलक।
तीन सालमे एहि बाधमे बहुत परिवर्तन भ’ गेल छै। चालीस बर्ख पहिने कोसी बान्ह बन्हने रहै। एहि बाधक पानि बहबा लेल कोसीक इंजीनियर सभ एकटा फाटक देने छलै, सुलूस फाटक। बान्हक भीतर बहैत रहै भुतही बलान। से ओकरा जाम क’ देलकै। एहि कात छोटकी नासीसँ पानि बहैत छलै। तकरा ओ बन्न कएलक अछि। जे छल बाधक सोंसा, से बन्न भ’ गेलै। एहि तीन सालमे जनमलैक अछि एकटा झील। करमी झील।
बीकोक टोलक लोक महीस पोसैत अछि। खेतीक बाद महीस रहै छै आ पाड़ाक पैकारी रहै छै। ओ समर्थ भेल, तँ पाड़ा ल’ क’ आसाम गेल। पाड़ा कीन’ लागल आ बेच’ लागल। बहुत कारबार पसरि गेलै।
फेर देखलक आसाममे तंग कर’ लगलै। पाइ छीन’ लगलै। लोककेँ बन्हकी बना लै। आसाममे कमाइ बेस रहै। मुदा, क्यो देखनिहार नइं। ओ आसाम छोड़ि देलक।
गाममे जमीन लेलक। गाममे देखनिहार छै। सोचलक गरीबो रहत, तँ आब गाममे रहत।
फेर ओकर ध्यान गेलै एहि नासी पर। एहि टोलक लोककेँ पानि हेलि क’ मन्दिरक पच्छिम बला गाछी आ परती दिस आब’ पड़ैक।
नासी बला जमीन भरि साल खसल रहै। कोनो साल किछु भ’ जाइत रहै, सएह बहुत। परते रहै, से कहब ठीक हेतै।
ओ खोज कएलक तँ ओ पाँच कट्ठा नासी रहै देवघारा गामक माल बाबूक। ओहि गाममे माल बाबूक बहुत जमीन रहै। सभ बाधमे जमीन रहै। एहने दोग-दागमे, खसल-पड़ल, परती-पराँट जमीन बेसी रहै। एहेन जमीन किनबा काल सस्तमे भ’ जाइत छै। ओ लेबाक बात कएलक। ओ जमीन ओकरा भ’ गेलै। ओकरा आश्चर्य भेलै जे जमीन ओकरा पैरि लागि गेलै।
सत्ते, ओहि जमीनक लेबाल नइं रहै। नइं तँ बस्तीक कातमे, बाटक कातमे, ई जमीन ओकरा नइं होइतै।
माल बाबू मरि गेल रहै। ओकर ओलादि सभ जमीन बेचि देलकै। पैसा ल’ लेलकै। जमीन रजिस्ट्री क’ देलकै।
फेर ओ साले-साल ओकरा भरओलक। दू साल पहिने ओ ओहि ठाम गोहाल ल’ अनलक। सतरह हाथक घर छै। पाड़ा कीनि क’ अनैत अछि। रखैत अछि, फेर बेच दैत अछि। आब अपने सिंहेश्वर थान मेला धरि जाइत अछि। आसाम नइं जाइत अछि।
ओकरा आँखिक आगाँ सभटा बात घुमैत छै। नासीक पानि। डुबलहा रस्ता। आसामक जंगल आ पहाड़। रजिस्ट्री आफिस। एहि जमीनक माटि भराइ। पछिला साल छहरक टूटब। माटिक भासब।
फेर रेलगाड़ीक इंजिन पुक्की देलकै। भदबारीमे रेलक आवाज बढ़ि जाइत छै। आश्चर्य छै, गाड़ी कोना चलैत छै। पानि लागल छै दुबगली। कतोक बेर लाइन टुटि जाइत छै। गाड़ी बन्न भ’ जाइत छै।
तीन बजे भोरुका पसिन्जर गाड़ी थिकै ई। आब जाग भ’ जएतैक। उबेर... चरवाह महीसकेँ पस्सर चराबए बहार करतैक। जाग भेल छै।
भोरुकबा उगल छै। आब के चोर अओतैक? के बान्ह कटतैक?
बीकोक आँखि लागि गेलै। भोरुका हवा ओकरा ठोकि-ठाकि क’ सुता देलकै।

पछिला साल एक्के बरखामे बाध डूबि गेलै। झलक’ लगलै बाध। कोसी बान्हक पच्छिम रेलबी लाइनसँ किसनीगंज, देवघारा आ रमपुराक बाध धरि चानी पीटि देलकै।
ओकर भरलहा माटि पर पानि चढ़ल नइं रहै, मुदा लगै जेना आब चढ़लै, तब चढ़लै। भरलाहा माटिक उत्तरमे पजेबाक देबाल जोड़ा देने रहै, आ ओ चैनसँ देखैत रहए।
ओकर पित्ती बीदो काका आबि क’ कहने रहै-बिकरम्मा, ई पानि बड़ कड़गर छौ, अदौसँ ई पानि एही बाटें बहैत छै। ई पानि मानतै? ई पानि नइं मानतै।
ओ कहने रहै-पानियोक बान्ह-छेक होइत छै बीदो काका।
बीदो कहने रहै-पानि बन्न भ’ जेतै। एतेक टा बाध खसल रहि जेतै। हजारो आदमीक मुँहमे जाबी लागि जेतै।
बीको जवाब नइं देने रहै। ओ माटिकेँ सरिअबैत रहए, जे भरलहा बाड़ी पर पानि नइं चढ़ै।
एक राति साँझसँ भोर धरि मेघ झहरैत रहलै। ओहो बुझैत रहए, जे दसोटा जन रखने पानिकेँ बान्हल नइं जा सकैत छलै। पछबारी कातसँ पानि चढ़ब शुरू भेलै। ओ उठि-उठि क’ देखैत रहल। पानि अपन बाट बना लेलक। पानि बह’ लागल रहै। फेर पानि वेग ध’ लेलकै।
एक बेर आवाज भेलै। उठि क’ ओ देखलक पजेबाक देबाल कटि क’ खसल रहै।
भोरमे उठि क’ देखने रहए, पानि बहैत रहै, ओकरा संग माटि खँघरैत रहै। बहुत रास पजेबा पानि संग घिचा गेल रहै। लगै जेना पजेबाकेँ जन लगा क’ छिटबा देने होइ।
बाट ओ जे बना देने रहै, से टुटि गेल रहै। फेर अद्भुतनाथ महादेवक मन्दिर धरि जेबाक बाटमे पानि रहै, झबका रहै।
ओ बुझने रहए जे ईंटाक देबाल गिलेबा पर जोड़ल छल, तैं टुटि गेल रहै। ओ पछिला साल निश्चय कएने रहए जे ओ आगाँ सिमटी पर पजेबा जोड़ओत। आ जँ गिलेबे पर जोड़ाओत, तँ सिमटीक टिपकारी जरूर करा देत।
पछिला साल ओ बहुत बात देखने रहए। कतबा पानि अबैत छै, आ कोना अबैत छै। सभटा देखने रहए।
जखन ओकर बाड़ीमे भरलाहा माटि बहुत धोखड़ि गेल रहै, आ पानि नासीमे दिन-राति बहए लगलै, तँ ओ बात अनठा देने रहए। ओहि बीच देवघारा गामक दू गोट छोट-छोट गिरहत एहि दने टपल रहै। साइत घासक बोरा माथ पर नेने टपैत रहै। ओ दुनू गोटे बात करैत टपैत रहै। बादमे जखन ओकर ध्यान गेलै, तँ ओ बुझलक जे ओ दुनू गोटे ओकरे बारेमे बात करैत छलै।
जागे बाबू कहने रहै-ई जमीन जा धरि अपना गामक माल बाबूक पल्लामे रहै, ओ पानिक बहनारि रहए देने रहै।
ओकरा जवाबमे भाले पण्डित कहने रहै-जागे बाबू, पहिलुका लोकक विचार दोसर रहै। माल बाबू बूझथि जे पाँच कट्ठा जमीनमे कतेक उपजा हेतै? पानिक निकासी जँ छूटल रहतैक, तँ पाँच सए बीघामे एहि च’रमे धान उपजतै आ हजारो गोटाकेँ आहार भेटतै।
जागे बाबू कहने रहै-समय बदलि गेल छै। जे धरती माल बाबूक पल्लामे रहै, से धरती आब खढ़भुसिया लोकक हाथमे आबि गेल छै। लोक आब एहिना बाट-घाट बन्न क’ देतैक। फड़फड़ा क’ सभ मरत।
भाले पण्डित कहलकै-लोक एखन की चण्डाल भेल अछि, आगाँ आर चण्डाल हैत। लोक लोककेँ खा जाएत।
गपक क्रममे जागे बाबू कहने रहै। नासी टपि गेलाक बाद कदाचित् बाजल रहै। भ’ सकैछ जीह दाबि क’ बाजल होइ। कहने रहै-भगवान कतहु गाम गेलखिन-ए? महादेव उद्भूतनाथ अपन महिमा देखा देलखिन। राता-राती पानिक बाट खोलि देलखिन आ डूबल बाधकेँ जगा देलखिन।
बीको सुनने रहए आ कठुआ गेल रहए।

फेर एहि साल जेठ मासक बात थिकैक। बीको ज’न लगा क’ माटि भरबैत रहए। पछिला सालसँ हाथ-दू हाथ ऊँच क’ माटि भरा देने रहए। फेर नव पजेबा मँगा क’ देबाल जोड़ौलक। सिमटी-बालु पर देबाल देलक।
बीदो काका आबि क’ बैसल रहै, बड़ी काल धरि बैसल देखैत रहलै। कहने रहै-बीको एहि बेर खूब भरले हें।
-एहि बेर सिमटी पर पजेबा जोड़बा देलिऐ, काका।
-आर सभ तँ ठीक छौ बीको, पानिक बहनारि बन्न भ’ जेतै।
बीको चुप भ’ गेल।
बीदो काका जखन जाए लगलै, तखन बीको परास्त भावसँ कहने रहै-बीदो काका, तों छह, तैं कहैत छियह-किसनीगंजक लोक, की देवघारा गामक गिरहत सभ कत’ गेल अछि? ककरो किऐ ने देखाइत छै ई देबाल, एहि देबालक सिमटी?
एहि साल फेर बेसी काल रातिकेँ पानि होअए लगलै। एहिना ओ राति भरि जागि क’ आ दिनमे ओगरि क’ पहरा देअए। बीकोकेँ प्रसन्नता होइ जे एहि बेर एखन धरि देबाल पानिकेँ अड़ओने छै।
भोरमे ओ अबेर दबा क’ उठल रहए। बीदो काका आएल रहै। ओ देखने रहै जे ओकर पित्ती बहुत उदास आ बौक रहै।
ओ पुछने रहै-बीदो काका, आइ देखैत छियह, बहुत उदास छह।
-पुछलें, तँ कहैत छिऔ, बिकरम! पछिला राति हमर उतरबरिया घर खसि पड़ल।
-पुरान भीत छलै, कका।
-नइं हौ, पानि फूलल जाइत छै। से पानि भीतक दाबामे लागि गेल छलै।
कनेक काल बीको चुप रहल।
थोड़बा काल बीदो कका चुप रहलै। बीदो कका फेर गप शुरू केलकै-बीको, पछिला दू दिनमे अपना टोलमे पाँच-सात टा भितघरा खसलै-ए।
बीको चुप रहि गेल।
फेर बीदो कका कहलकै-मलहटोली वला बान्ह छै, जे बड़का बान्ह पर जाइत छै, ताहि पर ठेहुन भरि पानि लागि गेल छै।
बीको मसखरीसँ बाजल-कका, एहि ठामसँ ओहि ठाम धरि पानिए पानि देखाइत छै। एहि झीलक नाम हम रखलिऐ अछि, करमी झील।
कका फेर बजलै-देवघारा गाम दिस जाए वला जे बान्ह छै, कोसी बान्हसँ निच्चाँ से ढहि-ढहि क’ कटि गेल छै। ह’र-ज’नकेँ हेला भ’ रहल छै।
बीको सुनलक आ चुप भ’ गेल।
कनेक काल बीदो कका चुप रहलै। फेर ओ गप शुरू केलकै-देवघारा गामक गिरहत सभ चाहक दोकान पर चर्चा करैत छै। कलक्टरकेँ दरखास्त देतै। सी. ओ.केँ पकड़ि क’ अनतै।
बीको गोहालीमे पैसल आ अपन फरसा उठा क’ बाहर अनलक।
बाँसक फट्ठाकेँ पट क’ रखलक, ओहि पर बालु देलक आ फरसाकेँ पिजाब’ लागल।
ओ सोचैत रहल आसाममे ओकरा देखनिहार क्यो नइं छलै। ओ आसाम छोड़ि भागि आएल। एहि ठाम ओकरा देखनिहार छै। कमी नइं छै। मुल्की लोक छै। एक टोल गोतिया छै। सात टोलमे ओकरे जाति छै जे जह-जह करैत छै।
ओ फरसा उठा क’ गोहालीमे मचान पर ध’ आएल आ ओकरा गमछासँ झाँपि देलक।
बीदो कका करमी झील दिस बौक भेल तकैत रहै। ओ बाजल-कका, एक बात कहिय’, आसाममे लोक छै से दोसर रंगक छै। साँझ होइ, की अन्हार होइ, चारि गोटे अबै छै, चारू कातसँ घेरि क’ किछु कहै छै... कोनो दसगर्दा काज लेल कहै छै। जरूरी भेल, तँ कपनटीमे बन्दूक सटा दै छै। एम्हरुका लोकसँ ओ सभ सात कच्छे नीक छै।