4
चाँद छि अहाँ तारा छि अहाँ
हमर मोनक सहारा छि अहाँ
रूपके वर्णन कहैत अछि
दुनिया के सितारा छि अहाँ !!
माँ कहै छैथ घरक लक्ष्मी छि अहाँ
आस - पास के लोग करै य चर्चा अहाँ के
जानकी नगरी क नारी छि अहाँ!!
कमल पुष्प सं सुशोभित अंग अहाँ के

कहैय म दुविधा नय वीणापाणी छि अहाँ!
अहल्या केर की बात करी,
द्रोपदी सं पंचाली छि अहाँ
सीता त उपमा मात्र छैथ,
अहि दुनिया के तारा छि अहाँ!!
भारती त शंकराचार्य के जितालैन
दुर्गा देवी के सामान छि अहाँ!
मुख सं निकलै स्वर अनमोल,
कोकिल कहबै छि अहाँ!!

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

  1. mani babu mani gelu aaha ke e t aaha nari ke aakash me phucha k chhori deliyae

    bahut nik bahut sundar

    muda nigetiv sath aur nik hoyat
    e totali posativ aae

    Gautam Kumar Jha
    Email ID :- goutam.jha@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत शुन्दर नारी वर्णन , कनिया यदि रूस्ती त हुनक अहि शब्द से मनेबैन ---
    चाँद छि अहाँ तारा छि अहाँ
    हमर मोनक सहारा छि अहाँ
    रूपके वर्णन कहैत अछि
    दुनिया के सितारा छि अहाँ !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. नीक कविता अओर प्रशंसनीय वाक्य-विन्यास...

    उत्तर देंहटाएं

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035