4

ब्रिटेन द्वारा मिथिलाक बेटीकेँ मान देल गेल अछि। अप्रवासी भारतीय शिक्षाविद् आशा खेमकाकेँ देशक प्रतिष्ठित सम्मान आर्डर आफ ब्रिटिश एंपायर देल जएत। ई सम्मान ब्रिटिश महारानी दिशसँ देल जाइत अछि । आशा एहि सम्मानकेँ प्राप्त केनिहारि पहिल एशियाई महिला छथि । बिहारक सीतामढ़ीमे जनमल आशा खेमका वेस्ट नाटिंघमशायर कालेजमे प्रधानाचार्य आ मुख्य कार्यकारी अधिकारी छथि । मात्र 15 सालक उमरिमे हुनकर विवाह मोतीहारीक 19 सालक मेडिकल छात्र शंकर खेमकासँ भेलन्हि । डा. शंकर वरिष्ठ आर्थोपेडिक सर्जन छथि । ओ 1978 मे आशाकेँ लंदन अनने रहथि। तखन आशा नीक जेकाँ अंग्रेजी सेहो नहि बजैत रहथि । एहि सप्ताह महारानीक हाथसँ ई सम्मान ग्रहण करए वाली आशा रवि केँ कहलन्हि , आर्डर आफ ब्रिटिश एंपायर सम्मान पाबि हम स्वयंकेँ गौरवान्वित अनुभव कए रहल छी । ई सम्मान शिक्षाक क्षेत्रमे हमर योगदानकेँ बढ़ाओत। शिक्षाक क्षेत्रमे आशाक उल्लेखनीय योगदानक लेल हुनका मई 2008 मे एशियन वूमेन आफ अचीवमेंट अवार्ड आ जुलाई 2007 मे नेशनल ज्वेल अवार्ड फार एक्सीलेंस इन हेल्थकेयर एंड एजुकेशन सेहो प्रदान कएल गेल अछि।

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

  1. आशा खेमका के बहुत - बहुत बधाई जे , लन्दन में जाके मिथीला के बट्टी बनी , मिथीला के मान -सम्मान बढोलैत हम सब मिथीला वाशी , हुनकर आभारी रहबैन ,
    जय मैथिल जय मिथीला

    उत्तर देंहटाएं

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035