6
गजलइजोतक दर्द अन्हार सँ पुछियौ
धारक दर्द कछेर सँ पुछियौ


नहि काटल गेल हएब जड़ि सँ
काठक दर्द कमार सँ पुछियौ


समदाउनो हमरा निर्गुणे बुझाएल
कनिञाक दर्द कहार सँ पुछियौ


सभ पुरुषक मोन जे सभ स्त्री हमरे भेटए
अवैध पेटक दर्द व्यभिचार सँ पुछियौ


करबै की हाथ आ गला मिला कए
अनचिन्हारक दर्द चिन्हार सँ पुछियौ

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

  1. bahaut nik bhai, ehina likhait rahoo...bes manoranjak aa bhedi prastuti....ahank rachnak bat takait-TEOTH

    उत्तर देंहटाएं
  2. करबै की हाथ आ गला मिला कए
    अनचिन्हारक दर्द चिन्हार सँ पुछियौ

    oho ho ho

    उत्तर देंहटाएं
  3. इजोतक दर्द अन्हार सँ पुछियौ
    धारक दर्द कछेर सँ पुछियौ

    नहि काटल गेल हएब जड़ि सँ
    काठक दर्द कमार सँ पुछियौ

    समदाउनो हमरा निर्गुणे बुझाएल
    कनिञाक दर्द कहार सँ पुछियौ

    सभ पुरुषक मोन जे सभ स्त्री हमरे भेटए
    अवैध पेटक दर्द व्यभिचार सँ पुछियौ

    करबै की हाथ आ गला मिला कए
    अनचिन्हारक दर्द चिन्हार सँ पुछियौ
    ati sundar

    उत्तर देंहटाएं
  4. hello... hapi blogging... have a nice day! just visiting here....

    उत्तर देंहटाएं

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035