6
गजल
गप्प जखन बिआहक चलल हेतैक

गरीबक बेटी बड्ड कानल हेतैक
गोली लागल देह दसो दिशा मे
कुशलक खोंइछ कत्तौ बान्हल हेतैक
डेग-डेग पर निद्रा देवीक प्रसार
केना कहू केओ जागल हेतैक
सड़ि गेलैक एहि पोखरिक पानि
जुग-जुगान्तर सँ नहि उराहल हेतैक
विश्वास करु समान कम नहि देत
बाटे मे बाट भजारल हेतैक

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

  1. केलहुँ कमाल देलहुँ घाव भाइ, एहि बेर छातीपर चोट केलहुँ

    उत्तर देंहटाएं
  2. gazal master chhi ahan,
    ehi ber pher ekta samvedanshil gazal ahank keyboard se niklal

    उत्तर देंहटाएं
  3. गप्प जखन बिआहक चलल हेतैक
    गरीबक बेटी बड्ड कानल हेतैक

    खोंइछ कत्तौ बान्हल हेतैक
    bad nik bhai saheb

    उत्तर देंहटाएं
  4. कलम सजाबी कोना सजाबी ई सजौनय कियो अहाँ स' सीखय I
    असली गजलकार ओहै अछि भाई जे ग़ज़ल सजा क' अहाँ सन लिखय II

    अपनेंक प्रशंसक
    हम छी-मनीष झा "बौआभाई"

    उत्तर देंहटाएं

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035