10
गजल

यथा एन्नी तथा ओन्नी एन्नी-ओन्नी तथैव च
यथा माए तथा बाप मुन्ना-मुन्नी तथैव च

बलू हमर करेज जरैए अहाँ गीत लिखै छी
यथा भँइ तथा अच्छर पन्ना-पन्नी तथैव च

देखहक हो भाइ बोंगहक पोता कोना करै हइ
यथा मुल्ला तथा पंडित सुन्ना-सुन्नी तथैव च

देवतो जड़ि पकड़ै हइ मुहेँ देखि कए बचले रहू
यथा मौगी तथा भूत ओझा-गुन्नी तथैव च

बान्हि क भँइ दूरा पर मगबै ढ़ौआ पर ढ़ौआ
यथा समधी तथा समधीनी बन्ना-बन्नी तथैव च

की करबहक हो भगवान एमरी सभ के
यथा मरनाइ तथा जिनाइ रौदी-बुन्नी तथैव च

बचले रहिअह अनचिन्हार एहि गाम मे सदिखन
यथा साँप तथा मनुख जहर चिन्नी तथैव च

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

  1. आशीष जी, झुमा देलहुँ बलू।

    उत्तर देंहटाएं
  2. यथा एन्नी तथा ओन्नी एन्नी-ओन्नी तथैव च
    यथा माए तथा बाप मुन्ना-मुन्नी तथैव च

    बलू हमर करेज जरैए अहाँ गीत लिखै छी
    यथा भँइ तथा अच्छर पन्ना-पन्नी तथैव च

    देखहक हो भाइ बोंगहक पोता कोना करै हइ
    यथा मुल्ला तथा पंडित सुन्ना-सुन्नी तथैव च

    देवतो जड़ि पकड़ै हइ मुहेँ देखि कए बचले रहू
    यथा मौगी तथा भूत ओझा-गुन्नी तथैव च

    बान्हि क भँइ दूरा पर मगबै ढ़ौआ पर ढ़ौआ
    यथा समधी तथा समधीनी बन्ना-बन्नी तथैव च

    की करबहक हो भगवान एमरी सभ के
    यथा मरनाइ तथा जिनाइ रौदी-बुन्नी तथैव च

    बचले रहिअह अनचिन्हार एहि गाम मे सदिखन
    यथा साँप तथा मनुख जहर चिन्नी तथैव च

    muda jaldi-jaldi post karu tathaiv cha

    उत्तर देंहटाएं
  3. bah,
    बान्हि क भँइ दूरा पर मगबै ढ़ौआ पर ढ़ौआ
    यथा समधी तथा समधीनी बन्ना-बन्नी तथैव च

    उत्तर देंहटाएं
  4. देखहक हो भाइ बोंगहक पोता कोना करै हइ
    यथा मुल्ला तथा पंडित सुन्ना-सुन्नी तथैव च

    hila delahu bhai

    उत्तर देंहटाएं
  5. की करबहक हो भगवान एमरी सभ के
    यथा मरनाइ तथा जिनाइ रौदी-बुन्नी तथैव च

    बचले रहिअह अनचिन्हार एहि गाम मे सदिखन
    यथा साँप तथा मनुख जहर चिन्नी तथैव च

    he bhai katay rahi ahan

    उत्तर देंहटाएं
  6. नाम अहांके बरु अनचिन्हार होय, मुदा ई रचना बड़ी देखार अछि
    शब्द छटा अछि ठेठ देहाती, मुदा एहि गजल में बड़ी निखार अछि

    उत्तर देंहटाएं

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035