7

गेल जाड़ मांस के कंपकंपी,
कूदू फान्दू बउवा येऊ,
मादक हवा कही रहल ऐच्छ,
आइबे रहल आइछ फगुवा यौ ॥

रंग-अबीर सं चमकत अंगना,
बल्जोरी के जोर चालत,
दू गिलास भांग के बाद,
बीस ता मल्पूआ यौ॥

नाक-भों जे कियो चढायब,
या की रंग पैइन सं घब्रायब,
जे करतेई बेसी लतपत,
रंग सं भ जीते थौवा यौ..

गोर्की भौजी, छोटका बउवा,
पहिरू पूर्ण अंगा, पुरना नुवा,
रंग-अबीर पोलिस सं,
सब गोते लागब कौवा यौ॥

बड नीक ई पाबैइन आइछ,
सबके मोंन के भाबैईत ऐच्छ,
एके रंग मैं सब रंगेतय ,
के धनीक, के बिल्तौवा यौ॥

फगुवा के यह मज़ा त छाई ,
तैयारी के ने आवश्यकता छाई,
रंग पैइन दुनु छाई सस्ता,
नई खर्चा हित दहौउअया यौ॥
फगुवा के तैयारी करू...

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

  1. भैया अपने के बहुत - बहुत धन्यवाद जे एतेक सुन्दर होली कविता अपने अई मैथिली ब्लोग पर प्रस्तुत केलो उम्मीद करैत छलो जे अपने के कलम सा और बहुत किछ पढ़ई लs मिलत ! अपने के कविता "आइबे रहल ऐच्छ फगुआ याऊ" कावीले तारीफ अच्छी !

    उत्तर देंहटाएं
  2. priya jeetu,
    shubh sneh. kavita neek laagal , dhanyavaad. mudaa maithili ke shabd translate kariat mein kichh kathinaaee hoet aichh aa hum etek takneekee gapp nahin jainat chhe . yadi kuno galti bha jaay ta samhaarab.

    उत्तर देंहटाएं
  3. सरजी अपने के होली कविता (आइबे रहल ऐच्छ फगुआ याऊ) बहुत निक अछि ! सच पुछू त अपने के कलम के बाते किछ और अछि !

    उत्तर देंहटाएं
  4. आत्मासँ हृदयसँ लिखल एहि ब्लॉगक सभ पद्य हृदयकेँ छुबैत अछि।

    গজেন্দ্র ঠাকুব

    उत्तर देंहटाएं
  5. गोर्की भौजी, छोटका बउवा,
    पहिरू पूर्ण अंगा, पुरना नुवा,
    रंग-अबीर पोलिस सं,
    सब गोते लागब कौवा यौ॥

    बड नीक ई पाबैइन आइछ,
    सबके मोंन के भाबैईत ऐच्छ,
    एके रंग मैं सब रंगेतय ,
    के धनीक, के बिल्तौवा यौ॥

    फगुवा के यह मज़ा त छाई ,
    तैयारी के ने आवश्यकता छाई,
    रंग पैइन दुनु छाई सस्ता,
    नई खर्चा हित दहौउअया यौ॥
    फगुवा के तैयारी करू...
    eti sundar

    उत्तर देंहटाएं
  6. ee blog samanya aa gambhir dunu tarahak pathakak lel achhi, maithilik bahut paigh seva ahan lokani kay rahal chhi, takar jatek charchaa hoy se kam achhi.

    dr palan jha

    उत्तर देंहटाएं
  7. shankar kumar jha ( skjha1961@gmail.com)26 फ़रवरी 2010 को 9:34 pm

    Maithili me Likhu..
    1. ek tippani bhejen----ekta tippani pathau
    2.ek link banayen ------srotbandh banau
    3.LINK TO THIS POST ----aei prastuti par srotbhandh banau
    4.is rup me tippani karen--ei rup me tippani karu
    5.profil chune--byaktivritt bichhu.
    6.tippani post karen--tippani prastut karu.
    .......ityadi...

    उत्तर देंहटाएं

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035