4


कोना सुखी रही ? मानव सभ्यता के आरंभ स इ प्रश्न मनुष्य क परेशान केना छई ! दार्शनिक, कवी, लेखक, विचारक, वैज्ञानिक आर नेता इ सब लोकेन अपन - अपन तरीका स अई प्रश्न के उत्तर के खोज आर व्याख्या केलखिन यए ! मुदा आइयो मनुष्य इ प्रश्न अनुत्तरिय अछि ! वर्तमान समय म आई जखन हमरा पास नया युग के आधुनिक चिंतन अछि, नई पीढ़ी के दार्शनिक, मैनेजमेंट मसीहा, आर सब समस्या के तुरंत निदान करै वाला विशेशग्य अछि ! आध्यात्मिक स्वर्ग के सुख दै वाला गुरु आर अई संसार त्वरित मोक्ष के अनुभूति दिलाबे बाला स्वामी सब छैथ ! मुदा सुखी केना रही इ प्रश्न ज्यों के त्यों अछि ! किछ दिन पहिने हम अई प्रश्न के बहुत रोचक आर सुखद आर दुःख पर प्रकाश डाले वाला उत्तर स रु ब रु भेलो जकरा हम अपने सब के बिच बांटे के इक्षुक छलो ! श्री श्री रवि शंकर जी द् आर्ट ऑफ लिविंग संस्था के संस्थापक कहैत छथिन की " अई ठाम दु टा कारण अछि दुःख के ! अतीत के पछतावा आर भविष्य के चिंता ! कतेक पैघ गप कहाल्खिंन ओ ? हम सब अक्शर सोचेत छलो की काश हमर विवाह किनको और स हेतिया ! हम ओ दोसर बाला नोकरी किये न स्वीकार केलो ? आदि आदि ! हमर सब के मस्तिष्क हमेशा अतीत आर भविष्य के बिच उलझल रहैत अछि ! या त हम सब बैह गेल दूध के लेल दुखी होइत छलो या ओई पुल क पार करै के प्रयाश म जाकर तक हम पहुचो नै सके छी ! अनावश्यक रूप स भेल घटना पर अपन माथा पेच्ची करै छी या जे होई बाला य ओकर चिंता मए वर्तमान क व्यर्थ करैत छलो ! बीत चुकल कैल के पश्याताप आर आबे बाला कैल के उत्सुकता मए हम आई के अनमोल पल के हरेनाए जय छी ! त अहि कहू हम सब सुख कोना प्राप्त करब ? श्री श्री रवि शंकर जी के कथन अनुसार हमरा सब कए इ स्वीकार करै परत की वर्तमाने सब किछ अछि ! हमरा वर्तमान के क्षण क पूरा तरह जिवाक चाही आर वर्तमान म हम जे के रहलो य ओई म अपन पूरा क्षमता लगे कए ओही मए अपन पूरा ध्यान केन्द्रित करी ! हमरा सब कए आई आर एखन म विश्वास करैये परत ! की भेल आर की हेत म भो सके य इ बात अपने कए असंभव प्रतीत हुए ! सचमुच म इ सिख लेब कठिन अछि ! जखन भी एक बच्चा एक कागज पर किछ चित्रित करैत छैथ, कागज के नाव पैन मए तैरैत या एक पंक्षी क उडैत देखैत छैथ ! ओई समय म ओ अपन पूरा ध्यान ओही काज मए लगबैत छैथ ! हुनका तनिको चिंता नै रहैत छैन की कियो हुनका देख रहलेंन य या कियो हुनका पर हैस रहलें या ! ओकरा इयो बात परेशान नै करे छई की ओ किछ देर पहिना की केला रहा आर किछ देर बाद की करता ! ओ त खाली अपन काज म मगन रहैत छैथ ! हम सब इ प्रकृति प्रदत्त बिना स्वचेतन भेल बच्चा के तरह वर्तमान के क्षण म जिवई के इ गुण क हरे चुकलो य ! जखन की सबसे बेहतर तरीका अछि जीवन म ख़ुशी ढूढाई के बजाय ओकरा कए हम पैकेज्ड मोक्ष आर ब्रांडेड निर्वाण के लेल भागी !

इ छोट-मोट बात क ध्यान म राखैत जीवन म सदा सुखी रैहसके छी

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

  1. mamtaa jee,
    shubh sneh. kamaal ke darshan prastut kailoun ahan sukh aa dukh par.aihenaa likhat rahoo. jaldeeye hamhun maithili mein bahut kichh likhay ke prayaas karab

    उत्तर देंहटाएं
  2. अपने के बहुत - बहुत धन्यवाद की हमर ब्लोग अपने पसंद केलो ! जैन क ख़ुशी मिलल की अपने के रूप म इ मैथिली ब्लोग क एक लेखक मिललाई, ऐहिना अपन मांटी के गौरव बढाबू !

    उत्तर देंहटाएं
  3. ee blog samanya aa gambhir dunu tarahak pathakak lel achhi, maithilik bahut paigh seva ahan lokani kay rahal chhi, takar jatek charchaa hoy se kam achhi.

    dr palan jha

    उत्तर देंहटाएं

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035