अप्पन सहयोगी साथि सभ पर गोलि चलबै बला CISF जवान मानसिक रुपे बीमारी छला - मिथिला दैनिक

Breaking

शनिवार, 14 जनवरी 2017

अप्पन सहयोगी साथि सभ पर गोलि चलबै बला CISF जवान मानसिक रुपे बीमारी छला

औरंगाबाद। 14 जनवरी।  अप्पन सहयोगी साथि सभ पर गोलि चलबै बला CISF (सेंट्रल इंडस्ट्रियल सिक्यॉरिटी फोर्स) के जवान दलबीर सिंह मानसिक रूपसे अस्वस्थ बताओल जे रहल अछि। जवान के परिजन सभक कहब अछि कि सीआईएसएफ के जवान क' मानसिक बीमारी केर सूचना देल गेल छल मुदा कियो एहिपर ध्यान नहि देलन्हि। 

जवान के माँ कहली कि सभके बुझल छल हुनकर मानसिक स्थिति ठीक नहि छल। जवान के संगी - साथी आर पड़ोसि सभक कहब अछि कि ओ एक एहेन बम छला जे कखनहुँ फाटि सकैत छल। जवान बलबीर सिंह दुइ बच्चा के पिता छैथ। 

सीआईएसएफ के मुताबिक, जवान हेड कॉन्स्टेबल बच्चा शर्मा, अमरनाथ मिश्रा, असिस्टेंट सब-इंस्पेक्टर जीएस राम , हवलदार अरविंद राम क' एहिलेल गोली मारलन्हि किएकजे हुनका छुट्टी देबा से  इनकार कायल गेल छल। सीआईएसएफ के बयान से सेहो जवान के मानसिक स्थिति ठीक नहि होयबाक संकेत भेटैत अछि। 

2011 मे झारखंड के बोकारो मे पोस्टिंग केर दौरान सेहो बलबीर केर हालत गंभीर छल। ई हुनकर दोसर पोस्टिंग छल। हुनकर एक रिश्तेदार कहलनि कि एक बेर ओ कार मे बैस जायत छला की बलबीर अचानक ड्राइवर केर गर्दैन पकैड़ हुनका अधमरा क' देलन्हि आर ओ मरैत - मरैत बचल।

2013 मे बलबीर अप्पन पत्नी के सेहो जान लेबाक कोशिश केना छल। ओ अप्पन अपनी पत्नी के माथ पर राइफल तानी देना छल। कॉन्स्टेबल बलबीर सीआईएसएफ 2008 मे जॉइन केना छल। बलबीर के माँ केर कहब अछि कि ओहिक बाद से बलबीर केरमानसिक संतुलन बिगड़े लागल। शायद 2010 मे हुनकर हालत खराब होयब शुरू भ' गेल छल। 

सीआईएसएफ पीआरओ मंजीत सिंह कहला कि हुनका लग बलबीरक बीमारी के कुनु रेकॉर्ड मौजूद नहि अछि किएक जे ओ कहियो कुनु सीआईएसएफ हॉस्पिटल मे इलाज लेल नहि आयल छल। आगा ओ कहला कि 2010 मे एक बेर छुट्टी केर अवधि से बेसी घर पर रुकबाक लेल हुनका दंडित कायल गेल छल। सिंह एहि बात से साफ इनकार क' देलन्हि कि बलबीर के परिवार सीआईएसएफ क' हुनकर मानसिक बीमारी के बारे मे कुनु जानकारी देलन्हि।