मणिकांत झा द्वारा रचल कविता हे महादेव बेनीपट्टी मधुबनी बस दुर्घटना ऊपर. - मिथिला दैनिक

Breaking

सोमवार, 19 सितंबर 2016

मणिकांत झा द्वारा रचल कविता हे महादेव बेनीपट्टी मधुबनी बस दुर्घटना ऊपर.


हे महादेव
छल कोन कसूर एहि छत्तीस के
नहि बाजि सकल क्यो इस इस के
लीखल छल सबके एहन क्लेश
सबहक माथा छल मारकेश
एहन कोना कयकय देलिएय
सबहक आयू के हरि लेलिएय
मानल जे अपने प्रलयंकर
हम सब बूझय छी शिवशंकर
विधि लीखल टारि सकी अपने
कालो के मारि सकी क्षण मे
से सब कि अपने बिसरि गेलहुँ
एहन भयंकर रूप धेलहुँ
मिथिला के अपने पर आश बहुत
जन जन मे विश्वाश बहुत
हे बैद्यनाथ सब दुख हरू
मणिकांतक बातक गौर करू ।
    - मणिकांत झा , दरभंगा ।
       १९-९-१६ ।