0

हे महादेव
छल कोन कसूर एहि छत्तीस के
नहि बाजि सकल क्यो इस इस के
लीखल छल सबके एहन क्लेश
सबहक माथा छल मारकेश
एहन कोना कयकय देलिएय
सबहक आयू के हरि लेलिएय
मानल जे अपने प्रलयंकर
हम सब बूझय छी शिवशंकर
विधि लीखल टारि सकी अपने
कालो के मारि सकी क्षण मे
से सब कि अपने बिसरि गेलहुँ
एहन भयंकर रूप धेलहुँ
मिथिला के अपने पर आश बहुत
जन जन मे विश्वाश बहुत
हे बैद्यनाथ सब दुख हरू
मणिकांतक बातक गौर करू ।
    - मणिकांत झा , दरभंगा ।
       १९-९-१६ ।

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035