0
~ हय उठय ने जाय जो रउ !
~ किआ गऽइ आय तोरा एत्तेक धरफरी किआ छउ ?

~ देखहि कने सब धोबीया महार पर जाइतो गेलय आ तूँ सब सूतल रह - - - -
~ सब जाइत गेलय तऽ हम सब कि करबैक ?

~अँय रउ तोरा नहि बुझल छउ जे आय विषहारा बला पंचमी छैइक ? थुमहा'क लेल माटि आनऽ परतौक ने !
~ अच्छऽ ! तऽ गुरकुनमा , मंगला , सोनमा , टूनमा सब चलि गेलय कि ?

~ नहि तऽ कि तोरा द्वारे बैसल रहतौक कि ?
~ अच्छऽ जाय दहि कोनो बात नहि हम तीनू भाई - बहिन दूइए बेर मे सात मौनी माटि पूरा लेबैय !

~ बेस ! तखन खूरपी - मौनी हइया छउ !
~ बउआ चल तखन जल्दी संऽ

वी०सी०झा"बमबम"
                                 कैथिनियाँ

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035