0

किछु गद्य कविता


नेता, कुकुर आ साहित्यकार तीनू बान्हल अछि खुट्टामे। नेता भ्रष्टाचारक खुट्टामे, कुकुर अपन चालिकेँ खुट्टामे आ साहित्यकार नेता आ कुकुर दूनूक खुट्टामे।


शङ्का

शङ्का चारि प्रकारक होइत छै,
आशंका
लघु शङ्का
दीर्घ शङ्का
अस्तित्व शङ्का

अहाँ कोन शङ्कासँ ग्रस्त छी ??????

संबंध

नेता हो तँ अफजल जकाँ जे संसदकेँ नीक लगैए। अभिनेता हो तँ संसद जकाँ जे वास्तविकताकेँ नुकबैए।

वाद

भूख की होइत छैक। यथार्थ की कल्पना ? अथवा एकरा एना कहिऔ जे भूखकेँ कोन वादमे बन्हबै ?

यथार्थवाद
तदर्थवाद
अभिव्यंजनावाद
नवचेतनावाद
वा की ??????????????.......


मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035