1


बतहा बसात सन टौआइत हमर जिनगी
मेंहक बरद सन थौआईत हमर जिनगी

बिपदाक टाल हमर जिनगीक दालान पर
सूखक कबाउछ में हौआइत हमर जिनगी

झहरैत मेघ थिक सब हमर मोनक मनोरथ
डालिक अरहुल सन मौलाइत हमर जिनगी

नोरक डबरा हमर जिनगीक आँगन में
काठक असरा सन घुनाइत हमर जिनगी

नेहक आतुर हमर जिनगीक भोर सांझ
सिनेहक सपना में बौआइत हमर जिनगी

स स्नेह
विकाश झा

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035