3

हैगा चित्र- तुनिशा प्रियम

1.टनका/ वाका


प्रकृति रोष
कुश तिल जलसँ
विधवा बनि
सधवा की विभेद
दूबि अक्षत जल

2.शेनर्यू

बनैया लोक

घरक पनिबह

बिदति नहि

3.हाइकू

करबीरसँ
घर गाछ पहाड़
घेरल अछि

4.हैबून

करहड़ उपारि कऽ खाउ, प्रकृतिकेँ घरमे बसाउ, फुलवारी बनाउ, पहाड़क फोटो बना कऽ घरमे लटकाउ। आ भऽ जाउ प्रक्रुति प्रेमी। गामकेँ नग्रमे लऽ आउ, चित्रकारीसँ, कलाकारीसँ, बुधियारीसँ।


खेलाइ हम
करियाझुम्मरिमे
नीचाँ अकास

एकपेड़िया सड़क कतऽ पाबी आब, आब तँ चारि लेन सेहो कम चकरगर मानल जाइए। छह लेन, आठ लेन। अकास मलिछोंह,गाछक हरियरी मलिछोंह। मोन मलिछोंह। मुदा सड़क, घर सभ फोटो सन चिक्कन चुनमुन।

लिखी चित्रसँ
घरक खाका आइ
छी जङलाह

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

  1. 1.टनका/ वाका 2.शेनर्यू 3.हाइकू 4.हैबून (हैगा चित्र- तुनिशा प्रियम)sabhta neek

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छा प्रयास ! हिन्दी हाइकु के लिए देखिएगा-
    http://hindihaiku.wordpress.com/
    तथा
    http://wwwsamvedan.blogspot.com/
    यह भी

    उत्तर देंहटाएं

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035