2
       दहेज़ मुक्त मिथिला
जन - जन  के  अबैत अछि आबाज ,
दहेज़ मिटाओ यो  मिथिला के राज |
गुजराल   बुढ     पूरानक      बात ,
नव युवक रखैया आई अपन आगाज ||
        दहेज़  मुक्त मिथिला  बनाऊ आब -
जुग बितल आयल नव जमाना ,
संस्कृति बचाऊ सब  मारैया ताना |
कोट    - कचहरी वियाह करैया ,
कन्यादान के    आब    बुझैया ||
नव युवक मंगैया आब अपन  जबाब
     दहेज़  मुक्त मिथिला  बनाऊ आब -
अहिना चलत ज ई  जोड़  - जमाना ,
की - की नै करत नव युबक  अपन बहाना |
बात मानू सब खाऊ मिल किरियो ,
बेटा - बेटी  में लेब नै  दू टा कोरियो  ||
नब युवक के देखू  आयल  राज
       दहेज़  मुक्त मिथिला  बनाऊ आब -
गाम - गाम में रह्त ई शान ,
बेटा नै बेचीलैथी छैथि निक इंशान |
दोसरक घर के भीख ज़ोउ मांगब ,
भीख मांगा के  नाम  से  जानब ||
नव युबक बात पर राखु आब नाज
      दहेज़  मुक्त मिथिला  बनाऊ आब -
छी परदेशी या  कउनु सहरी ,
सुनू पुकार  आई  मिथिला  के |
जों संस्कृति छोरी गेला ओ ,
संतान कहओता ओ दोगला के |
नव युबक बात के नै मनाब खाराप
    दहेज़  मुक्त मिथिला  बनाऊ आब -

        मदन कुमार ठाकुर



मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035