1
अहाँक आइ कोनो आने रंग देखइ छी।

बगए अपूर्व कि‍छु वि‍शेष ढंग देखइ छी।

चमत्‍कार कहू, आइ कोन भेलऽ छि‍ जग मे?

कोनो वि‍लक्षणे ऊर्जा-उमंग देखइ छी।।

बसात लागि‍ कतहु की वसन्‍तक गेलऽ ि‍छ,

फुलल गुलाब जकाँ अंग-अंग देखइ छी।।

फराके आन दि‍नसँ चालि‍ मे अछि‍ मस्‍ती,

मि‍जाजि‍ दंग, की बजैत जेँ मृंदग देखइ छी।।

कमान-तीर चढ़ल, आओर कान धरि‍ तानल,

नजरि‍ पड़ैत ई घायल, वि‍हंग देखइ छी।।

नि‍सा सवार भऽ जाइछ बि‍ना कि‍छु पीने,

अहाँक आँखि‍मे हम रंग भंग देखइ छी।।

मयूर प्राण हमर पाँखि‍ फुला कऽ नाचय,

बनल वि‍ऽजुलता घटाक संग देखइ छी।।

लगैछ रूप केहन लहलह करैत आजुक,

जेना कि‍ फण बढ़ौने भुजंग देखइ छी।

उदार पयर पड़त अहाँक कोना एहि‍ ठाँ?

वि‍शाल भाग्‍य मुदा, धऽरे तंग देखइ छी।।

कतहु ने जाउ, रहू भरि‍ फागुन तेँ सोझे।

अनंग आगि‍ लगो, हम अनंग देखइ छी।।

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035