3
कतय गेल आ जा रहलय,
हमर ओ अप्पन छवि।
केहन बेदाग छल स्वर्णिम,
साक्ष्य छथि उगल रवि।

कतय गेल उर्वरता हमर माटिक,
जे उगबैत छल बिनु कांट गुलाब।
आश्वस्त छलहुं छवि रहत नीक,
मुदा पूर भेल ने हमर खोआब।

यैह माटि उगओने छल कहियो,
वीर सपूत शिवाजी कें ।
यैह माटि उगओने छल कहियो,
सावरकर, लोकमान्य तिलक कें ।

एकरे उपज छल ओ संत,
जकरा स्वार्थ छलैक ने एको पाई।
जनसेवा कें सर्वोपरि बुझलक,
ओ बनल देव शिरडी साईं।

कयने अछि हमरा अति आकच्छ,
उत्पात मचा 'दू गोट कपूत'।
नहि रहय देलक ई छवि स्वच्छ,
धयने छैक एकरा स्वार्थक भूत।

कयलक ई दुनू घोर कलंकित,
स्वर्णिम इतिहास मराठा कें ।
सेकि रहलय ई बिनु आंच,
अप्पन स्वार्थ पराठा कें।

जं घाव रहैछ कोनो अंग मे,
दुखित होइछ समूचा शरीर।
एहन नालायकक बात पर,
होउ ने अहाँ सभ अधीर।

किन्नहु नहि होयत भला जखन,
प्रान्तक हित देखि छोडि राष्ट्र।
हो खाहे ओ असाम, बंगाल,
वा हम अपने महाराष्ट्र।

डीरिया रहलय जे ई दुनू कुपात्र,
एहन ने हम स्वार्थी छी।
कष्ट पहुंचल अपने सभ कें,
ताहि हेतु हम क्षमा प्रार्थी छी।

http://teoth-aihik.blogspot.com
More Poems (Published) By रूपेश कुमार झा 'त्योंथ'
Visit- www.rkjteoth.blogspot.com
E-mail: rkjteoth@gmail.com
Mobile-09239415921

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

  1. मधुमक्‍खी की तरह गुणों रूपी मिठास एकत्र करते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आदरणीय मिथिला बंधू ,

    बिषय : जाती आधारित जनगणना के हम सब बिरोध कर रहे हैं , भासा आधारित जनगणना का हम समर्थन करते हैं

    आय कैल में लोकसभा आर राज्यसभा में गूंज रहल अछि जाती आधारित जनगणना , लेकिन जाती आधारित जनगणना के हम आर हमर अखिल भारतीय विकाश सेना जोरदार तरीका से विरोध करी रहल छीक, अखंका समय में भारत के शरकार जाती आधारित जनगणना करा के की समझाबे चाहेत अच्छी से हमारा नहीं पता चली रहल अच्छी, वर्ष 1931 में अंग्रेजी शासक इ जाती आधारित जनगणना करेने छल. व्ह्ही के जाती आधारित जनगणना के नक़ल इ कांग्रेस गवर्नमेंट करा रहल छित . आब हम हिंदी में लिथ रहल छीक से मिथिला प्रेमी बुरा नहीं मनाब कीयाक ते कतेक लोक हिंदी में पढ़े बाला सेहो छिथ , हमारे देश में कांग्रेस रूप में जो गवर्नमेंट अवि के समय में अंग्रेजी शासक ka नक़ल kar raha hi iska kiya matalab huaa aaplog jante hi kiya ? Congressi गवर्नमेंट ka हम log pur jor से विरोध karata hu , Hum regional language के aadhar par yadi जनगणना hota to हम log uska samarthan karte aur karenge, kiyoki regional languaage के aadhar pa yadi जनगणना hota hi to ek chota sa rajaya bannene के liye 3 ,0000000 [ 3 karor ] population चाहिए. इसीलिए भारत के बर्तमान सर्कार ने बड़ी चलिके से रेगिओनल हिसाब से जनगणना न कर्बके जाती आधारित जनगणना करबा रहा ही. अतः हम लोग पुरे मिथिलांचल वाशी से अनुरोध करता हु जो हमारा मेल पढ़ रहे है , वह ये मेल पढ़ ले और पुरे देश में जिन्जिंको आपना दोस्त ही केबल मिथिलांचल वाशी को ये मेल फॉरवर्ड कर दे जो , जाती आधिरित जनगणना का विरोध करने के लिए. आप को मालूम की , इस समय हमलोगों ने भारत सर्कार से आपना मिथिलांचल राज्य के मांग के लिए दबाब दल रहा हूँ और अलग से तेलन्गाना राज्य का मांग हो रहा है, इसी से भारत सर्कार घबरा कर के जाती आधारित जनगणना करबा रहा ही , इसीमे जो जाट पट है उसको देखने से किया मतलब बनता है. अतः क्षेत्रीय आधारित जनगणना में हमलोगों का राज्य अलग जरुर बन जा सकता ही कियोकी हमलोगों का जन्श्न्खिया लगवाग ६००००००० [ छः करोर ] है. इसीलिए हम पूरा मिथिलांचल वाशी से अन्नुरोधा करता हुं की जब जनगणना करने वाले हमलोगों के द्वार पर जावे तो अपने घर में जर कह दीजिये गा की हमारी मत्री भाषा मैथिलि ही, लिखवाने के लिए, अखिल भारतीय मिथिला विकाश सेना से भारत बर्ष के सरकार और बिहार सरकार दर से गए है की मिथिलांचल में उनलोगों का बर्चास्वा कही कम न हो जाये , हुं लोगो का अलग से जिन २८ जिला [ अट्ठाईस जिला ] का मांग कर रहे है , वोह जिला हमें भारत सरकार और बिहार सरकार वापस दे दे , जिससे हमारे मिथिला वाशी को कल्याण होगा और हमलोग बिहारी न कहालाके आदरनिये मिथिलांचल वाशी कह लायेंगे , जैसे झारखंडी लोग अभी झारखण्ड वाशी कहलाते है. इसी बार हुं लोगो ने निर्णय किया हु की हमलोगों का सेना आने वाले बिधान सभा के इलेक्शन में मिथिलांचल का वेश लेकर इलेक्शन लारेंगे , और लालू जी की सरकार, नितीश जी की सरकार, या कांग्रेस की सरकार, या रामबिलास जी की सरकार को हम लोग चुनोती देंगे की किया मिथिलांचल के वाशी चाहते है, आपलोग सायेद जानते है की नहीं झंझारपुर में कमला नदी के ऊपर में जो रेल ब्रिज हिई अंग्रेज के सषक ने जो बनबा के गया वोही आज तक चलता आ रहा ही , उसको देखे वाला कोई नहीं, न भाजपा की सरकार, न जनता दल की सरकार , न लालू जी की सरकार आर न कांग्रेस के सरकार सब पार्टयों से संसद चुन कर गया हुआ है और उस रशाते में सबका घर परता व् है लेकिन लेकिन लगा हुआ है......... कियोकी किसी सरकार में दम ही नहीं जो मिथिलांचल का विकाश चाहे, हमलोग ने निर्णय किया की इसी बार के विधानसभा के इलेक्शन में सब पार्टियों को इट से इट बजा देंगे. आब हमे आप लोगो का साथ चाहिए. आपको एक कहाबत मालूम है की मिथिला के लिए जब आन्दोलन नहीं करेंगे तो हमें मिथिला नहीं मिलेगा. " पायाब निज अधिकार कतहु की बिना झगरने, अछि सलाई में काठी, बारात की बिना रगारने" ये दोस्तों फ़ॉर्मूला ले कर के चले. और मिथिलांचल बनाने में सहयोग करने का कास्ट करे , जय मिथिला , जय मैथिली

    जाती आधारित जनगणना का अखिल भारतीय मिथिला विकाश सेना विरोध करता है, क्षेत्रीय भाषा आधारित जनगणना का हम समर्थन करते है , इसीसे हमर मिथिलांचल का जन्शंखिया का पता चलेगा,

    धन्यवाद,

    आपलोगों का बंधू


    कुमोद नारायण चौधरी
    राष्ट्रीय सभापति
    अखिल भारतीय मिथिला विकाश सेना
    गुड्स ट्रांसपोर्ट रोड वोर्केर्स उनिओन
    भुत पूरब प्रत्याशी कोलकाता उत्तर लोकसभा केंद्र
    मोबाइल : 09748532929
    Email : kumodchoudhary@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035