3

हम पहिल बेर अपने लोकनिक सेवा मे गीत प्रस्तुत कए रहल छी।



छौड़ी चलै छैक एटम-बम के चालि (२)
हे रे - छौड़ी -----
जेम्हरे चलै, भुइयाँ डोलै
छौड़ा सभहँक फटै छैक मालि
छौड़ी चलै ---------


अँचरा ओकर फेकै छैक धधरा
कारी केश तँ लागै छैक बदरा
ठोर पर छैक भोरक सूरज
आँखि ओकर कमला-धार
छौड़ी चलै ---------


हम तँ बूझू सगरो देखल
रूप मुदा एहन नहि भेटल
डाँड़ लचका कए मोन भरछाबै
छाती ओकर दै हिया सालि
छौड़ी चलै ---------


रूप ओकर छैक चानी पीटल
छाँह ओकर बड़ शीतल-शीतल
मोन हमर तँ ओकरे पर रीतल
हमरे भेटतै आइ ने काल्हि
छौड़ी चलै ---------*

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

  1. DHANYBAD, JEETU JI....
    BAD NIK LAGAL AHANKE E SITE... ASHA KARAI CHHI KI MITHILA KA AA MAITHILI KE PYAR KARNIHAR LOK KE BAD NIK LAGAT E SITE..

    उत्तर देंहटाएं

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035