4
चान सनक छथि हमर बहिन
छथि लाख में एक हमर बहिन

देवी सन छथि रूप सजौने
ममता के मूर्ति हमर बहिन
बैदेही जनक लली सती सीता
सावित्री छथि हमर बहिन
फूल सन कोमल खिलैत एली
अपन वव्याहर स समानित भेलीह हमर बहिन
छथि चान .............................

जहिया स एली ओ अहि घर में
गंगा जल सन निर्मल हमर बहिन
सब के हसेलनी खूब बजेलनी
शान बधेलनि हमर बहिन
अपना मधुरगर बोली आ बिचार स
सव के लुभेलनी हमर बहिन
चान सनक ....................................

भेलानी विवाह बनी गेलीह पराया
दुनु आंखी में नोर भरी गेलीह हमर बहिन
जनकक अंगना सुन लगे छानी
हमरा तेजी गेली हमर बहिन
जाऊ ये दुलरी ससुरक हवेलिया
कुलक मर्यादा राखब हमर बहिन
चान सनक ...................................

बाबा माथक पाग के राखब बचा
बाबु क लाज राखब हमर बहिन
सॉस ससुर के माय बाप बुझी
कर्बैंह खूब सम्मान हमर बहिन
छि जग जननी क रूप अहाँ
राखब मिथिलाक सम्मान हमर बहिन
छथि चान सनक हमर बहिन ..........

(अहांक प्रिये ॥ मैथिल पुत्र,॥)
ललित नारायण झा
मोबाईल नंबर: +919681199649, +919681899869

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

  1. ललितजी मैथिल आर मिथिलामे अहाँक स्वागत अछि।

    उत्तर देंहटाएं
  2. भेलानी विवाह बनी गेलीह पराया
    दुनु आंखी में नोर भरी गेलीह हमर बहिन...


    Lalitji apnek rachna dil ka chhu lelak...

    उत्तर देंहटाएं
  3. चान सनक छथि हमर बहिन
    छथि लाख में एक हमर बहिन

    Wah... wah.... apnek katbo tariff kari Lalitnarayanji kame het.....

    उत्तर देंहटाएं
  4. ललितजी हम अहाँक सभ रचना पढलो अहाँक लेखनिक एक अलगे अंदाज अछि ! अहिना माँ जननी, माँ मिथिलाक लेल लिखैत रहू ....


    हमर शुभ - कामना अछि ....
    अमरकांत झा

    उत्तर देंहटाएं

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035