2
बस लिख रहल छि अपन व्यथा छि निर्धन मुदा कमजोर नहीं
छि दृढ विश्वासी करून प्रिये छि दिन - हिन् मुदा चोर नही
अछि चंचल मन आ कोमल ह्रदय नहीं निर्दय आ घुश्खोर नही
बस देखि श्रिस्टी के प्रफुलित भय नहीं शम्भू आ अघोर नहीं
छि दर्शन के अभिलाषी मात्र हम मुदा हमर दुखक कउनु ओर नहीं
करी सत - सत नमन ओही जन्म भूमि के जकर ममता क कोनो मोल नही
बस इ मनोरथ पूरा करैथ जननी रही धैर्य वान आ कर्म चोर नहीं
लहराबी अपन यश के पताका मानश पटल पर
बनी क मत्री भूमि के प्रहरी मुदा बिद्रोही नहीं
अछि कामना हमर रही मातु पिता के चरण पकरी
निश्वार्थ क सकी अपन सर्वश्व न्योछाबर मुदा डरपोक नहीं
हम छि कुम्हारक तुक्ष आभा सन जहिना सचाब तहिना निक्लब
हमर अपन कुनो रूप नहीं, हमर अपन कुनो रूप नहीं.....


(अहांक प्रिये ॥ मैथिल पुत्र,॥)
ललित नारायण झा
मोबाईल नंबर: +919681199649, +919681899869

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

  1. ललितजी मैथिल आर मिथिलामे अहाँक स्वागत अछि।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बस लिख रहल छि अपन व्यथा छि निर्धन मुदा कमजोर नहीं..
    ati sundar....

    उत्तर देंहटाएं

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035