4


अमूल्य बात ----
बेकार नै जिनगी बैतित करू ,
नै समय भेटल अछि गमबैय क
जग में आयल छि अहाँ ,
और सब के कम बनाबैय क
कथनी बरनी से लाभ नै ,
करनी में ध्यान लगा राखू
करनी में शुख आनन्द भेटत ,
कथनी छि मन बहलाबई क
हुनकर जिनगी अछि बातक ,
छैथ जन्मल बात बनाबैय क
पोथी - पत्तरा के ग्ज्ञानी छैथि ,
फुशिये सम्मान क अभिमानी छैथि
नै अनुभव छैन रहन - सहन क ,
भरम में ओ अभिमान सं
जग क ओ मिथ्या कहिते ,
लिकिन जग में आश लगाबैत छैथि
अपन गप्प के शिध्य करै लेल ,
पाबैत नहीं छैथ ठोर- ठिकाना
कथनी से तेज करू करनी क ,
करनी सं बनाबू रहनी क
करनी से चैन मिले रहनी क ,
करनी छी जिनगी सवारै क
आस लगाबी करनी में ,
करनी छी भाव बढा बाई क
अमूल्य बातक ई ध्यान राखी ,
भेटत नहीं ई राज शिखाबई क
राजा रंक फकीरा चाहे ,
अपन जिनगी सफल बनाबाई क
The end
मदन कुमार ठाकुर
पट्टी टोल, कोठिया , भैरव स्थान , झांझर पुर ,मधुबनी , बिहार , ८४७४०४ई मेल - madanjagdamba@yahoo.com

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035