11
गजल
मछगिद्ध जँ माछ छोड़ि दिअए त डर मानबाक चाही
लोक जँ नेता भए जाए त डर मानबाक चाही


रंडी खाली देहे टा बेचैत छैक अभिमान नहि
मनुख अस्वभिमानी हुअए त डर मानबाक चाही



अछि विदित शेर नहि खाएत घास भुखलों उत्तर
वीर अहिंसक बनए त डर मानबाक चाही



माएक रक्षा करैत जे मरथि सएह विजेता
माए बेचि जँ रण जितए त डर मानबाक चाही


सम्मानक रक्षा करब उद्येश्य अछि गजल केर
जँ उद्येश्य बिझाए त डर मानबाक चाही

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

  1. bah bhai, gazal me ahank javab nahi,

    jahi prakare dvandaka madhyama se, viparitata ke pakari kae gazal likhlahu se adbhut.

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रमेन्द्र झा16 अप्रैल 2009 को 10:34 pm

    गजलमछगिद्ध जँ माछ छोड़ि दिअए त डर मानबाक चाही
    लोक जँ नेता भए जाए त डर मानबाक चाही


    नेते किये बन्धु, लोके सँ तँ नेता बनैत छथि

    उत्तर देंहटाएं
  3. सम्मानक रक्षा करब उद्येश्य अछि गजल केर
    जँ उद्येश्य बिझाए त डर मानबाक चाही

    सहि कह्लहि, अपना ल' कए चल्बाके चाही।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अछि विदित शेर नहि खाएत घास भुखलों उत्तर
    वीर अहिंसक बनए त डर मानबाक चाही

    alankarik gazal

    उत्तर देंहटाएं
  5. "Ahak Jatha enni tatha onni" bad nik lagal . tahi k lel bahut dhanyabad.
    muda e gajal me kebal shabde ta bhetal pranak kami achhi muda ahak kalam tej achhi ruka nai debai chalabait rahu.
    jai maithili.

    उत्तर देंहटाएं
  6. neeka laagal, kanek halluk aa mongar kavita seho chahi vyast jivnak bad

    उत्तर देंहटाएं
  7. gazal vidha maithili me otek pratishthit nahi rahal karan phooharpan beshi chhal, aab lagaiye ahank aagman ekra door kay rahal achhi.

    उत्तर देंहटाएं

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035