गतिशीलता - वीरेन्द्र मल्लिक - मिथिला दैनिक

Breaking

शनिवार, 4 अप्रैल 2009

गतिशीलता - वीरेन्द्र मल्लिक

आब हम ओ नहीं रहलहुँ
किछु आओर भ' गेलहुँ
से की यौ?
ओ आने लोक कहत।