10
कविता
हुनका लेल
कविता हुनका लेल छन्हि
जे
अपना के किछु ने बुझैत छथिन्ह



कविता हुनका लेल छन्हि
जे
अपना के सभ किछु बुझैत छथिन्ह



कविता हुनका लेल छन्हि
जे
किछु ने बुझैत छथिन्ह




मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

  1. kichu likay s nik je nahi likhi.
    sahitya antar monak prakash achi.
    muda bhitar utaray parat...

    उत्तर देंहटाएं
  2. ओना कविता लगैत अच्हि नीके मुदा विचार-स्फुटन किछु आर स्पष्ट होय तकर बेगरता। अन्यथा नहि लेब ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. कविता हुनका लेल छन्हि
    जे
    अपना के सभ किछु बुझैत छथिन्ह

    bah bhai aah nikali delahu

    उत्तर देंहटाएं

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035