10
मोन गेल भोथियायल,
जोति बरद सोचिमे पड़लहुँ,
एतय-ओतय केर बात,
हर जोतने भेल साँझ,
हरायल बरद ताकी चारू कात।
कहबय ककरा ई गप्प,
सुनि हँसत हमरा पर आइ,
मोने अछि भोथियायल,
अप्पन सप्पत कहय छी भाय।

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

  1. मोन गेल भोथियायल,
    जोति बरद सोचिमे पड़लहुँ,
    एतय-ओतय केर बात,
    हर जोतने भेल साँझ,
    हरायल बरद ताकी चारू कात।
    कहबय ककरा ई गप्प,
    सुनि हँसत हमरा पर आइ,
    मोने अछि भोथियायल,
    अप्पन सप्पत कहय छी भाय।

    badd nik lagal, har jotait jotait barad hara gel,

    उत्तर देंहटाएं
  2. hamro mon bhothiyayal achhi, har jotait kal barad harebak varnan samichin

    उत्तर देंहटाएं
  3. nik blog achhi e, nirantar nik pratuti padhbak lel bhetait achhi,

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत निक प्रस्तुति

    अहिना लिखैत रहू आ मिथिला के नाम रोशन करैत रहू !

    उत्तर देंहटाएं
  5. ee blog nirantar rachnatmak aa navin rachna se poorna bujhi me abait achhi, matik sugandhik sang

    उत्तर देंहटाएं

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035