किया करब मिथ्याभिमान (मैथिली कविता) - नवल किशोर झा - मिथिला दैनिक

Breaking

गुरुवार, 30 नवंबर 2017

किया करब मिथ्याभिमान (मैथिली कविता) - नवल किशोर झा

कृपा देवक जे एहि कलियुग मे ,
बनल मनु केर हम संतान।
सभकिछु हुनके लेश नहि अप्पन,
किया करब मिथ्याभिमान।।

                                    विधना जे घसि देल कपार मे,
                                 मिटा सकै नहि कियो बलवान।
                                 हुनके आँगुरक कठपुतली हम ,
                                     किया करब मिथ्याभिमान।।

जनिका कोईख'क आश पाबि केर ,
बनल जगत मे अप्पन पहचान।
तनिकर सदिखन ऋणी रहब हम ,
किया करब मिथ्याभिमान।।

                              पलभरि केर ईs जिनगी'क मेला,
                              भेटब नहि बितला पर एकठाम ।
                              मिसिया भरि धन-वैभव खातिर ,
                                  किया करब मिथ्याभिमान ।।

ईs धन-वैभव संग नहि जाएत,
जाए परत एकसरि सुरधाम।
कियो भेटत नहि मददगार से,
किया करब मिथ्याभिमान।।

                         कखनहुँ अहंवश कोनो सज्जन केर ,
                                 दुर्जन बनि नहि करी अपमान।
                                चरण तs राखब एहि धरा पर ,
                                    किया करब मिथ्याभिमान।।

यौ,स्वर्ग-नरक सभटा एत्तहि अछि,
जेहन बनाएब ,बनत से धाम।
सभकिछु जानईत प्रियबंधुगण,
किया करब मिथ्याभिमान।।


- नवल किशोर झा
शिवनगर घाट, दरभंगा