1

सहरसा। 06 दिसम्बर। 500 आर 1000 टक्का केँ नोट बंद भेलाक बाद जिनका लग पुरनका नोट छलैन्ह सभ अप्पन खाता म' जमा क' देलन्हि।  इनकम टैक्स केर लिमिट सँ बचबाक लेल लोग अपना खाता म' कम पाई जमा करि दोसर लोकनिक खाता केर सहारा लेलन्हि। लेकिन, एहि बिच सहरसा केँ ईशर नर्सिंंग होम केर संचालक डॉ ईशर किनको कुनु परवाह केना बिना अप्पन बचत खाता म' 2 . 25 करोड़ टक्का जमा केलन्हि। 

डॉ ईशर एतेक पैघ रकम अप्पन खता म' जमा तेँ क' देलन्हि, मुदा आब आयकर विभाग केँ अधिकारि सभ क' हिसाब देबै म' हुनका घाम छुइट रहल छैन्ह। डॉ ईशर आईटी केर टीम क' कही रहल छैथ कि ई पाई सिर्फ हुनकर नहि बल्कि पूरा परिवार केँ अछि। इ कुनु काला धन नहि अछि।  आयकर विभाग केर अधिकारि सभक दिस सँ डॉ ईशर स' लगातार पूछताछ कायल जे रहल अछि। 

अपने क' बता दी डॉ ईशर सहरसा म' प्राइवेट नर्सिंग होम चलबैत छैथ। डॉ ईशर सहरसा जिला केँ नामचीन सर्जन छैथ। खुद सर्जरी केँ विशेषज्ञ के पुत्र आर हुनक पुत्रवधु सेहो डॉक्टर अछि। पुत्री सहरसे म' स्त्री व प्रसुती रोग विशेषज्ञ छथि। 

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035