0
 मधुश्रावणी पूजि रहलि नव विवाहिता लोकनिक वास्ते एकटा टटका विषहरि गीत ।

विषहरि गीत
~~~~~~~~
सौन मास आहे विषहरि दर्शन देल
राम देखिते विषहरि के माथा लेल झुकाय-२
भाग ओ सोहाग विषहरि सब के दियौ
राम धिया पुता सब पर रहियौ सहाय -२
दुध फूल लावा देव तोहरो चढ़ाय
राम रक्षा करू आहे विषहरि सब केर आइ
जाही ओ जूही विषहरि अनलहुँ सजाय
राम मैना पात सुन्दर विषहरि
देब बैसाय -२
गलती जे कोनो तकरा छेमि दीय 
राम अबल शरण मणि सुनियौ गोहारि -२ ।।
 - मणिकांत झा  , दरभंगा
      ३ अगस्त २०१६

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035