हफकौरा (बिहनि कथा) - वी०सी०झा"बमबम" - मिथिला दैनिक

Breaking

मंगलवार, 26 जुलाई 2016

हफकौरा (बिहनि कथा) - वी०सी०झा"बमबम"

माय गऽई कने हमरो दाढ़ि दितैंऽ ! एतबहिं छौंड़ा तऽ बाजलहि कि ओम्हर संऽ पितियैन चोट्टहि बाजि उठलैक सदिखन एकर मुह अजबारले रहैैत छैइक मुंह जे लगैत छैइक हपकौरे खाय बला कतहु संऽ आयत कि दूधे - दहि दिस ध्यान लागल रहैत छैइक !
हइया मखानऽ पात पर दइत छियहु आ ने कने ?

किआ अहाँ'क बेटा - बेटी जे खाइत अछि से ! ओ नैन्ह टा छौंड़ा बाजि उठल !

~ ओ सब जे खाईत छैइक से ओकर बाप कऽ माल - जाल छहि ओ खेतय नहि ? ओ सब अपन बापक कमेलहा खाइत छैइक तों कोन बापक कमेलहा खेमे ? जो ने माय के कहियैन बाप'क कमेलहा पाय कऽ हपकौरा देतहु खाय लेल !

छौड़ा निछ्छोहे माय'क कोरा मे आबि बैसि गेलय आ फफकि -फफकि कैंऽ कानऽ लगलैक ! माय हमरा काकी कखनहु किछु दइतो नहि अछि आ लोक सब लग फूसियौं संऽ कहैत रहैत छैइक ओं छौड़ा हमरा धिआ - पूता कैंऽ किछू मुंह मऽ नहि लेबय दइत छैइक सबटा छिन - छपैट कऽ खा लइत छैइक तेहन ढिठगर छय ! माय काकी हमरा सदिखन किआ दबारैत रहैत अछि ? ओ अपना बेटा-बेटी कऽ कहाँ किछ कहैत छैइक हमरे टा किआक ? तूं तऽ ओकरा बेटा कऽ किछ नहि कहैत छहि तइयो हमरा किआ'क ओ ?

माय गऽई कि अप्पन बाबू नहि कमाइत छलैक ? कि अपनो बाबू रहितैक तऽ ओकरहि सब जकाँ तुहूँ हमरा हपकौरा दैतहि ? माय गऽई अपन बाबू कतय चलि गेलय ? ओ आब नहि अउथिन घूरि कऽ - - - -?

माय'क आँखि संऽ नोरक धार छोड़ि आर किछु नहि निकलि सकलहि ओहि बच्चा'क प्रश्नक जबाव मऽ !


वी०सी०झा"बमबम"
                                 कैथिनियाँ