1
मैथिल आर मिथिला के समस्त पाठक गण  क' जितमोहन झा (जितू) के प्रणाम/नमस्कार

मित्रगण, अपने सब एहि जालवृत के लोकप्रियता क' शिखर तक पहुँचेलो ओहि लेल कोटि - कोटि धन्यवाद।  जेना की गीता सार में कहल गेल अछि "परिवर्तन ही संसार का नियम हैं" तें  एहि जालवृत में परिवर्तन करबाक समय आईब गेल अछि।

आब हम एहि जालवृत के एक रजिस्टर डोमिंग के संग न्यूज़ पोर्टल बनबे जे रहल छी। जालवृत जहिना रहे तहिना रहत मुदा आब आन सब रचना के संगे संग एहिठाम अप्पन मिथिला के समाचार सेहो प्रकाशित होयत।

नोट : चुकी जालवृत क' न्यूज़ पोर्टल बनबे जे रहल छी ताहि लेल थीम सब में कने परिवर्तन करे परत यदि अपने के कुनु दिक्कत हुवे ते माफ करब। 

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

  1. परिवर्तन के बिना ते संसार अधूरा अछि| ताहि लेल इहो जालवृत्त में किछू सुधार आ परिवर्तन होयवाक चाही|
    आहांक निर्णय स्वागत योग्य अछि|

    उत्तर देंहटाएं

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035