0

{(बेटी अछि अहाँक गौरब भैया)-२
सुनू मिथिलाकेँ सभ मैया }-२
बेटी अछि भविष्य हमर समाजक
(नहि वेटीकेँ निरसाउ हे दैया )-२

(किएक बेटा बचैपर अहाँ उतरलहुँ)-२
यौ बेटाकेँ बाबू
बिन बेटीकेँ कोना चलत
ई देश समाज बताबू
नै बनू निर्लज्य अहाँ
काइल्ह अहुँ अपन बेटी बियाहब
जागू जागू यौ बेटीक बाबू
भाइ बहिन आ माए सब जागू

किएक मोटरी बुझि नैन्हेंटामे
बेटीक वियाह करेलहुँ
देखू ओकर जिनगीकेँ
घोर नरकमय बनेलहुँ

आब नै एहेन गल्लती करब
बेटीकेँ शिक्षित करब
माथ उठा कए ओहो चलेए
एहन सभसँ विनती करब

{(दहेज रूपी दानबकेँ हम सभ)-२
मिल कए आब जड़ाबी }-२
जे कियो दहेज माँगथि
हुनका बेटा सहीत भगाबी

(चाही त’ बेक साउंड आ आन्तरा पर नीचांक देल लाइनक प्रयोग सेहो कए सकैत छी )    
जय हो ........
जय हो .........
जय हो मिथिलाकेँ बेटीकेँ
जय हो मिथिलाक नव समाज
जय हो .....  जय हो ......      

*****
जगदानन्द झा 'मनु'           

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035