गजल @ जगदानन्द झा 'मनु' - मिथिला दैनिक

Breaking

बुधवार, 23 जनवरी 2013

गजल @ जगदानन्द झा 'मनु'


चलि अहाँ कतए किए गेलहुँ मुरारी
एहि दुखियाकेँ हरत के कष्ट भारी

तान ओ मुरलीक फेरसँ आबि टारू
बिकल भेलहुँ एतए एसगर नारी

द्रोपतीकेँ लाज बचबै लेल एलहुँ
नित्य सय सय बहिनकेँ कोना बिसारी

बनि कऽ फेरसँ सारथी भारत बचाबू
सभक रक्षक हे मधुसुदन चक्रधारी  

वचन जे रक्षाक देलहुँ ओ निभाबू
कहत कोना ‘मनु’ अहाँकेँ हे बिहारी

जगदानन्द झा ‘मनु’
(बहरे रमल, वज्न – २१२२-२१२२-२१२२)