0


लग आबू नए सजनी प्राण प्रिया
अहांक सूरत देखैला फाटेय हिया
केस लागैय कारी बादलक घटा सन
देह लागैय  बिजुली  केर  छटा सन
हौले हौले उठाऊ नए सजनी घुंघटा //
मुह  देखीमें  देब  रेशम  कय दुपटा //२

लग आबू नए सजनी प्राण प्रिया
अहांक सूरत देखैला तडपैया  जिया
आजुक राईत गोरी अछि खास यए
मोनमे लागलअछ मिलनक प्यास यए
हमरा गलामे गोरी गलहार द दिय //
अई बदलामे हिरा केर हार ल लिय//२ 

लग आबू नए सजनी प्राण प्रिया
अहांक सूरत देखैला तरसैय अंखिया
लाज  सरम गोरी   किया करैतछी
हम तें  सजनी  अहिं  पैर मरैतछी
लग आबू नए सजनी प्राण प्रिया//
आन बुझु नए हम छी आहंक पिया//२
रचनाकार:-प्रभात राय भट्ट

हे यौ मीता आई बड़का कमाल भोगेलैय//
हमर सारीक देख हाटमे  बबाल भोगेलैय//२
जर जुवान  हुए  चाहे  छौराछेबारी
सभ  कियो  रहे परल हिनकेय पछारी
देख हिनक चालढाल गाल गुलाबी
पाछु पैरगेलैय तिन चाईरगो सराबी

हे यौ मीता आई बड़का कमाल भोगेलैय//
हमर सारीक देख हाटमे  बबाल भोगेलैय//२
नजैर घुमा जखने केलकै छेड़खानी
इआद पाड़ीदेलकै हमर सारी नानी
हाथ पईर तोईर पियादेलकै पानी
जेना बुझी सारी हमर झाँसिक रानी

हे यौ मीता आई बड़का कमाल भोगेलैय//
हमर सारीक देख हाटमे  बबाल भोगेलैय//२
देख हिनक ठोरक लाली कनक बाली 
छौरा कहलकै  बईनजो हमर घरवाली  
उठिगेलई सारीक तामस बड जोर
माईर माईर तोईर देलकै पोर पोर

हे यौ मीता आई बड़का कमाल भोगेलैय//
हमर सारीक देख हाटमे  बबाल भोगेलैय//२
नहीं जाने कोन चकिक खाईछई आंटा
चलबै छई छौरा सभ पैर जोरक चांटा
सिखने छै सारी हमर कम्पू कराटे काटा
लूचा लफंगा देकते करैछई बाई बाई टाटा

रचनाकार:-प्रभात राय भट्ट

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035