0

जीनगीक कष्ट सब अबिते रहत  
आंखिक नोर सदिखन झरितॆ रहत ।

हृदयक भाव त पवित्र रखिने रहू 
प्रेमक दीप सदिखन जरिते रहत ।

भावक सुख में त परम सुख भेटत
जीनगीक गाड़ी अहिना चलिते रहत

दिनक इजोरिया में खुब खुश रहू
रातुक अन्हरिया त अबिते रहत !

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035