गजल- भास्करानद झा भास्कर - मिथिला दैनिक

Breaking

सोमवार, 5 दिसंबर 2011

गजल- भास्करानद झा भास्कर


जीनगीक कष्ट सब अबिते रहत  
आंखिक नोर सदिखन झरितॆ रहत ।

हृदयक भाव त पवित्र रखिने रहू 
प्रेमक दीप सदिखन जरिते रहत ।

भावक सुख में त परम सुख भेटत
जीनगीक गाड़ी अहिना चलिते रहत

दिनक इजोरिया में खुब खुश रहू
रातुक अन्हरिया त अबिते रहत !