1
मार्ग कठिन अछी आत्मबल सबल अछि

पाठकक स्नेहे स मनोबल बढल आछी !
हम तऽनिमित छि मिथिलाक पुत्र केर ,
दीन राति बाटैत छि मैथिलिक सूत्र केर !!
मिथिला राज्य चाही बस एक अछि अभिलाषा ,
अपन गाम घरक  सहयोग स जरुर पुरत इ आशा !!!
 


गीतकार - मुकेश मिश्रा

पट्टीटोल , भैरव स्थान ,
झंझारपुर ,मधुबनी ,
बिहार , ८४७४०४
मो -9990379449

 
 
             भारत भूमि महान
हमर हे भारत भूमि महान  ----- 
आहा केर लाखक लाख प्रणाम | 

भाल मुकुट हिमगिरी बीराजय ,
 बन उपवन तन -मन के साजय,
जलनिधि पायर पखारथी सदिखन ,
कय कल -कल स्वर गान !
हमर हे भारत भूमि महान ----
आहा केर लाखक लाख प्रणाम !!
दिनकर प्रथम किरन दय उर पर ,
गाबय कोकिल सातहु सुर पर ,
शीतल बिंदु इंदु झहराबथी ,
तरेगन  करैत अछि   मुस्कान
हमर हे भारत भूमि महान -----
 आहा केर लाखक लाख प्रणाम
ब्रम्हापुत्र ,गंडक आ गंगा ,
सरयुग ,कोशी ,यमुना ,तमसा ,
वक्षस्थल पर खेलथी सदिखन
 कमला और बलान !
हमर हे भारत भूमि महान ---
आहा केर लाखक लाख प्रणाम
शंकर ,व्यास ,मंडन आ दधिची,
बिद्या बारीधी पुण्र बिभूति ,
देलनि रंग बीरंगक पोथी गीता ,वेद ,पुरान !
हमर हे भारत भूमि महान ----
 आहा केर लाखक लाख प्रणाम
गाँधी ,बुद्ध ,सुभाष ,भगत केर ,
जंथी के नही एही जगत केर
सीता ,साबित्री सन कर्मठ ,
मनु सनक  कतेको  सन्तान !
हमर हे भारत भूमि महान ------
 आहा केर लाखक लाख प्रणाम
           (समप्प्त )

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035