2

आरे तिरपित पारे तिरपित
कनही कूकूर माँड़े तिरपित

बैसि रहल सरकार चुना
देशक जनता ठाढ़े तिरपित

मना रहल मधुमास धनिकबा
गरीबक भाग अखाढ़े तिरपित

उठौना लागल दूनू साँझ
बाछी मुदा लथारे तिरपित

कतबो झपबै नंगटीनी के
निर्लज्जी मुदा उघारे तिरपित

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

  1. आरे तिरपित पारे तिरपित (12वार्णिक मात्रा - रदीफ तिरपित- काफिया पारे)
    कनही कूकूर माँड़े तिरपित (12वार्णिक मात्रा - रदीफ तिरपित- काफिया माँड़े)

    बैसि रहल सरकार चुना (11वार्णिक मात्रा - रदीफ तिरपित)
    देशक जनता ठाढ़े तिरपित (12वार्णिक मात्रा - रदीफ तिरपित- काफिया ठाढ़े)

    मना रहल मधुमास धनिकबा (13वार्णिक मात्रा - रदीफ तिरपित- )
    गरीबक भाग अखाढ़े तिरपित (13वार्णिक मात्रा - रदीफ तिरपित- काफिया अखाढ़े)

    उठौना लागल दूनू साँझ (10वार्णिक मात्रा - रदीफ तिरपित- )
    बाछी मुदा लथारे तिरपित (11वार्णिक मात्रा - रदीफ तिरपित- काफिया लथारे)

    कतबो झपबै नंगटीनी के (11वार्णिक मात्रा - रदीफ तिरपित- )
    निर्लज्जी मुदा उघारे तिरपित (12वार्णिक मात्रा - रदीफ तिरपित- काफिया उघारे)

    सभमे १२ कऽ दियौ जेना ३,४,५,६,७ पाँतीमे , बेशी झमेलो नै अछि- जेना झपबै केँ झपबए (७म पाँती)केलासँ आदि।

    कहबाक जरूरति नै जे गजल एक नम्बर बनल अछि।

    उत्तर देंहटाएं

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035