7
एक टा नया गीत प्रस्तुत अछि। गीतकार छथिन हमर मित्र सहरसा-निवासी शैलेन्द्र कुमार ’शैली’, गीत के धुन आ स्वर- दुनु हुनके देल अछि।



सुन लक बुचबा टिक भेल ठार
कहलक बाबू आबै छि
भैया पढ़s दरभंगा मे
हम त गोबर थापै छि

हमी सब टा काज करै छि
खेती आ पथारी
हमरे बूते देखू बाबू
भरैया बखारी

भैया बुचकुन बाबू छैत
आ हम त बुरि कहाबै छि

सुन लक बुचबा....

भैया जखन गाम अबै छैथ
चाही खीर आ पुरी
हमरा खातिर देखियो सब दिन
वैह चिकना के गुरी

भैया पलंग पर सुतै छैथ
हम पटिया बिछाबै छि

सुन लक बुचबा...

भैया खातिर किन लैथ बाबू
बजाजक स्कूटर
हम खेत-खरिहान उगै छि
एक महिषक ऊपर


भैया खातिर बाटा जूता
हम त एंड़ धराबै छि

सुन लक बुचबा टिक भेल ठार....


- शैलेन्द्र कुमार ’शैली’
कायस्थ टोला
सहरसा-852201
संपर्क- 09430695337

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035