2
ग्यारह बरख पहिने हम सब अप्पन देश छोइड अमेरिका ऐलों खान - पान , रहन - सहन , भाशा , कपडा स ....तीज त्यौहार सब कीछ बीदेशी जकां लागे । हमरा मोंन ऐछ हमर पहिल होली अमेरिका के .....जे कनैत बीतल छल , कियो छुट्टी नै लेइत छल .... होली में , कियो नब कपडा नै किनत ....कियो मालपुआ नै बनावतआ , कियो रंग नै लागैत , त केहन होली ...हम सब मनैब ???

ओही दिन स सोच्लौं की होल़ी जरूर मानायेब ....मालपुआ..... जरूर खायब .....आ रंग जरूर लगाएब .... एतेक नीक स होली मनायेब की , हम मिथिला वासी सब मिसाल बैन जैब कोनो प्रवासी लेल !!!!

पहिल बरख हम सभ परिवार मिल क होली मनेलौं ......सभ साल नब नाम होइत ऐछ होली के ....नब मेनू , नब कपडा .....आ नब मैथिल परिवार ।
एही बेर १० बरख भा रहल ऐछ ,आ एही होली के नाम ऐछ ......
रंग रंगीली मैथिल होली ......
अहाँ सभके अपडेट करैत रहब ....अप्पन रंगारंग कार्यक्रम के ,


३५ मैथिल परिवार , ८ राज्य सा मिश्र मिश्रछैथ । गान , बजान , खान पान के संगे मैथिल मिलन , ड्रेस प्रतियोगिता , छोट पैघ बच्चा सभक उत्सुकता और हमर सबहक संस्कृति और व्यवहारक जानकारी ....इ उद्देश्य रहैत ऐछ ,

रंग रंगीली मैथिल होली के ......
अहाँ सभ के होली के शुभकामना आ बहुत बहुत बधाई ......अमेरिका के रंग रंगीली मैथिल होली के परिवार दिस ....स !!!!

विद्या मिश्र






मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

  1. बड़ निक लागल अहाँक ई शब्द पढ़ी के, जे अमेरिका में रहितो आई दस बरख से मैथिल बैन अप्पन संस्कार के नहीं बिसरलो |
    जय मैथिल जय मिथिला

    उत्तर देंहटाएं
  2. विद्याजी "मैथिल आर मिथिला" ब्लॉग परिवारक करफसँ अपनेकs होलिक हार्दिक शुभकामना....

    उत्तर देंहटाएं

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035