7
भोर भेल,

ओ तैयार भेलाह.

दुपहरिया भेल,

ओ बिदा भेलाह.

सांझ भेल,

ओ पहुँच गेलाह.

राति भेल,

वो भेंट भेलाह.

भोर भेल,

ओ हेरा गेलाह.

सुनालियैक,

हमर बियाह भय गेल.



हमारा देखलक.

हमहूँ देखलियैक

अस्त-व्यस्त घर,

आओर ऐँठल लोक.

जेना तेना,

सामंजस भेल.



साउस रुस्लीह,

खिसिया गेलाह.

माये मुईल,

डपटि देलाह.

बेटा भेल

मुस्का देलाह.

बेटी भेल

खिसिया गेलाह.

नौकरी भेलन्हि,

हुनकर भाग.

गाय मुईल

हमर अभाग.



नहि बूझि सकल

की चाही हुनका.

हम चाहियन्हि

हमर बेटी नहि.

भोजन चाहियन्हि

बनौनिहार नहि.

सफाई चाहियन्हि

कयनिहार नहि.

घर चाहियन्हि

बसौनिहार नहि.



माए रहितैक

तऽ पूछितियैक.

की ओकरो

लागैत छलैक,

जीवन चाहियैक

मुदा एहन नहि?

सोचैत छी,

ओ रहिबो करितैक

तऽ की कहितैक

ओहो कहाँ भिन्न छल

हमर साउस सँ.

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

  1. बेटा भेल मुस्का देलाह। बेटी भेल खिसिया गेलाह।

    सभ पाँती भवनाक आ समाजक वर्णन।

    उत्तर देंहटाएं
  2. भोर भेल,
    ओ तैयार भेलाह.
    दुपहरिया भेल,
    ओ बिदा भेलाह.
    सांझ भेल,
    ओ पहुँच गेलाह.
    राति भेल,
    वो भेंट भेलाह.
    भोर भेल,
    ओ हेरा गेलाह.
    सुनालियैक,
    हमर बियाह भय गेल.


    यात्रीजी मोन पड़ि गेलाह।
    नूतन शिल्प आ कथ्यक मिलनसँ ई कविता अति सुन्दर बनि गेल अछि।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ahank ee kavita bhavishya lel bahut ras aashak sanchar karait achhi

    उत्तर देंहटाएं
  4. हमारा देखलक.

    हमहूँ देखलियैक

    अस्त-व्यस्त घर,

    आओर ऐँठल लोक.

    ahank kalam se bahut aasha achhi

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेटा भेल

    मुस्का देलाह.

    बेटी भेल

    खिसिया गेलाह.

    nik lagal

    उत्तर देंहटाएं
  6. भोर भेल,

    ओ तैयार भेलाह.

    दुपहरिया भेल,

    ओ बिदा भेलाह.

    सांझ भेल,

    ओ पहुँच गेलाह.

    राति भेल,

    वो भेंट भेलाह.

    भोर भेल,

    ओ हेरा गेलाह.

    सुनालियैक,

    हमर बियाह भय गेल.



    हमारा देखलक.

    हमहूँ देखलियैक

    अस्त-व्यस्त घर,

    आओर ऐँठल लोक.

    जेना तेना,

    सामंजस भेल.



    साउस रुस्लीह,

    खिसिया गेलाह.

    माये मुईल,

    डपटि देलाह.

    बेटा भेल

    मुस्का देलाह.

    बेटी भेल

    खिसिया गेलाह.

    नौकरी भेलन्हि,

    हुनकर भाग.

    गाय मुईल

    हमर अभाग.



    नहि बूझि सकल

    की चाही हुनका.

    हम चाहियन्हि

    हमर बेटी नहि.

    भोजन चाहियन्हि

    बनौनिहार नहि.

    सफाई चाहियन्हि

    कयनिहार नहि.

    घर चाहियन्हि

    बसौनिहार नहि.



    माए रहितैक

    तऽ पूछितियैक.

    की ओकरो

    लागैत छलैक,

    जीवन चाहियैक

    मुदा एहन नहि?

    सोचैत छी,

    ओ रहिबो करितैक

    तऽ की कहितैक

    ओहो कहाँ भिन्न छल

    हमर साउस सँ.

    उत्तर देंहटाएं
  7. माए रहितैक

    तऽ पूछितियैक.

    की ओकरो

    लागैत छलैक,

    जीवन चाहियैक

    मुदा एहन नहि?

    kautuk raman ji,
    ahan me bAHUT PRATIBHA ACHHI

    उत्तर देंहटाएं

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035