6


साँच जिनगी मे बीतल जे गाबैत छी।
वेदना अछि हृदय मे सुनावैत छी।।
साँच जिनगी----------

कहू माता के आँचर मे सुख जे भेटल।
चढ़ैत कोरा जेना सब हमर दुख मेटल।
आय ममता उपेक्षित कियै राति दिन।
सोचि कोठी मे मुँह कय नुकाबैत छी।।
साँच जिनगी----------

खूब बचपन मे खेललहुँ बहिन भाय संग।
प्रेम सँ भीज जाय छल हरएक अंग अंग।
कोना संबंध शोणित के टूटल एखन?
एक दोसर के शोणित बहाबैत छी।।
साँच जिनगी----------

दूर अप्पन कियै अछि पड़ोसी लगीच।
कटत जिनगी सुमन के बगीचे के बीच।
बात घर घर के छी इ सोचब ध्यान सँ।
स्वयं दर्पण स्वयं केँ देखाबैत छी।।
साँच जिनगी----------
 

मिथिला दैनिक क' समाचार ईमेल द्वारा प्राप्त करि :

Delivered by Mithila Dainik

  1. साँच जिनगी मे बीतल जे गाबैत छी।
    वेदना अछि हृदय मे सुनावैत छी।।
    साँच जिनगी----------कहू माता के आँचर मे सुख जे भेटल।
    चढ़ैत कोरा जेना सब हमर दुख मेटल।
    आय ममता उपेक्षित कियै राति दिन।
    सोचि कोठी मे मुँह कय नुकाबैत छी।।

    nehal kay delho bhai

    उत्तर देंहटाएं
  2. साँच जिनगी मे बीतल जे गाबैत छी।
    वेदना अछि हृदय मे सुनावैत छी।।
    साँच जिनगी----------कहू माता के आँचर मे सुख जे भेटल।
    चढ़ैत कोरा जेना सब हमर दुख मेटल।
    आय ममता उपेक्षित कियै राति दिन।
    सोचि कोठी मे मुँह कय नुकाबैत छी।।
    साँच जिनगी----------खूब बचपन मे खेललहुँ बहिन भाय संग।
    प्रेम सँ भीज जाय छल हरएक अंग अंग।
    कोना संबंध शोणित के टूटल एखन?
    एक दोसर के शोणित बहाबैत छी।।
    साँच जिनगी----------दूर अप्पन कियै अछि पड़ोसी लगीच।
    कटत जिनगी सुमन के बगीचे के बीच।
    बात घर घर के छी इ सोचब ध्यान सँ।
    स्वयं दर्पण स्वयं केँ देखाबैत छी।।
    साँच जिनगी----------

    ek-ek shabd mohit kelak

    उत्तर देंहटाएं
  3. साँच जिनगी मे बीतल जे गाबैत छी।
    वेदना अछि हृदय मे सुनावैत छी।।
    bah bhai ji

    उत्तर देंहटाएं
  4. साँच जिनगी----------

    खूब बचपन मे खेललहुँ बहिन भाय संग।
    प्रेम सँ भीज जाय छल हरएक अंग अंग।
    कोना संबंध शोणित के टूटल एखन?
    एक दोसर के शोणित बहाबैत छी।।
    साँच जिनगी----------

    bahut nik

    उत्तर देंहटाएं

मिथिला दैनिक (पहिने मैथिल आर मिथिला) टीमकेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, पाठक लोकनि एहि जालवृत्तकेँ मैथिलीक सभसँ लोकप्रिय आ सर्वग्राह्य जालवृत्तक स्थान पर बैसेने अछि। अहाँ अपन सुझाव संगहि एहि जालवृत्त पर प्रकाशित करबाक लेल अपन रचना ई-पत्र द्वारा mithiladainik@gmail.com पर सेहो पठा सकैत छी।

 
#zbwid-2f8a1035